नीर ,नयन या बदली का

सच्चिदानन्द सिन्हा

नीर भरी बदली और तेरी ,नयनों में क्या फर्क रहा।

दोनों ही जल बरसा देती, जब भी उनका जी चाहा।।

तुम दोनों जीवनदाता हो, बिन दोनों जीवन कैसा।

नहीं रहे दोनों में कोई, कमी खलेगी तब कैसा।।

नीर ,नयन बिन जीवन का, क्या संभव है बचना ।

नयन बिना जीवन दुष्कर,पर जल बिन बचेगा कितना।।

जल बरसाते हैं दोनों ही, पर भेद अलग दर्शाता है।

बरस मेघ खुद जीवन देता,आंसू ग़म बतलाता है।।

काम अहम दोनों का रहता, जीवन दोनों से चलता है।

कमी किसी का गर हो जाये, जीवन दूभर हो जाता है।।

दोनों ही नीर हुआ करते, पर कर्म अलग दोनों का।

एक नयन का रक्षक है, एक सकल जीवन का ।।

पर महत्व दोनों का अपना, दोनों ही धर्म निभाते हैं।

निरत रहें दोनों कर्मो में, ‘कर्म ही धर्म’ बताते हैं।।

दोनों हैं वरदान प्रकृति के, जीव-जंतु सबके खातिर।

मुफ्त बाॅटती रहती खुद, सबके जीवनरक्षण खातिर।।

आभारी…

View original post 56 और  शब्द

आज सच्चाई विवश है.

सच्चिदानन्द सिन्हा

ये दुनिया उसी की , जमाना उसी का ।

जिसने शराफत न सीखी, जो हुआ न किसी का।।

नहीं पास तहजीब कोई, न तौर, न तरीका ।

नहीं पास विद्या कोई, न सीखा सलीका ।।

गलत काम सबको ही , मन आज भाये।

गलत जो न करते , वे मूरख कहाये ।।

बेईमानों के हाथों ,सच्चाई बेबस है ।

सिवाये सिसकने के ,चलता न बस है।।

बुरा कर्म करना , उन्हें सिर्फ आता ।

जो बुराई में डूबे , मन इनको भाता ।।

चोरों, बेईमानों का , संगत उन्हें है।

नजरों में उनकी , सज्जन ही बुरे हैं ।।

रखता वो खुद को, नशा में डूबाये ।

कोई ऐसा नशा न, जो बच उससे पाये ।।

डूबते हैं खुद भी, औरों को भी डुबाते।

नये लोग को भी, हैं पथभ्रष्ट बनाते ।।

इनकी संख्या बड़ी है, जमात बड़ी है।

कुपथ पे चलने की ,हिमायत बड़ी है ।।

इनसे बचकर निकलना…

View original post 61 और  शब्द

ज्ञान-दीप

सच्चिदानन्द सिन्हा

दीप जल खुद रोशनी दे , दूर कर देता अंधेरा ।

अग्नि कितने रूप धर ,देता सदा सबको सहारा।।

तुम न थे ,थी रात काली, छाया हुआ रहता अंधेरा।

रोशनी दिखती तभी थी, जब हुआ होता सबेरा ।।

चुपचाप छिप कहीं बैठते, कुछ और कर पाते न थे।

मजबूरियों की जिंदगी, जीने को सब मजबूर थे ।।

हर तरफ से घात करने, को लगे कुछ जीव रहते ।

मौत सब की जिंदगी को, घेरे सदा हर ओर रहते ।।

जिन्दगी और मौत की , रहती सदा थी जंग तब ।

रक्षक न कोई था कहीं, डर जिंदगी जीते थे सब।।

निर्भीक न कोई जीव था, सबने लगाया घात था ।

दरकार मौके का सबों को, खतरों भरा तब रात था।।

सब जीवों से चालाक मानव, अग्नि को जब खोज पाया।

दीप जब सीखा जलाना, अधिकार तम पर पा गया।।

काफी समय उसने लगाया, तब उसे टिमटिमाते दीप को, विकसित सदा…

View original post 46 और  शब्द

मन नहीं थकता कभी

सच्चिदानन्द सिन्हा

कुछ लोग दुनियाॅं में, शायद इसीलिए आते ।

भला सब का करते, बदले कुछ नहीं लेते।।

भलाई करने में सब का, उन्हें आनन्द है मिलता।

पड़ती झेलनी परेशानियाॅं, फिर भी मजा आता।।

सुकून उनके दिल को, इतना अधिक मिलता।

परेशानी समझे सब जहाँ, उन्हें आनंद है मिलता।।

जिन्हें कोई काम करने में, सुखद एहसास मिल जाये।

कठिनतम काम भी उनके लिये, आसान बन जाये ।।

थकान उनके पास तो, आ ही नहीं सकता कभी।

तन जाये थोड़ा थक भले, मन नहीं थकता कभी।।

ऐसे लोग होते चंद ही, ज्यादा नहीं होते ।

बहुधा तो, वर्षों में कभी, अवतार ये लेते।।

वैसे भी तो दुनियाॅं में, सदाचारी हैं कम होते ।

आते हैं सभी निश्छल, विकृत मन यहीं होते।।

मनोविकार ही शत्रु प्रबल, प्रत्येक मानव का।

डुबोये बिन न जल्दी छोड़ता, यह शत्रु है सबका।।

विकार तो कमोबेश सब में, है रहा करता ।

जो बच, अछूता रह गया, है संत…

View original post 60 और  शब्द

लौहपुरुष, तेरा शेष काम

सरदार पटेल बल्लभ भाई, सपना तेरा साकार हुआ।

ऐ लौहपुरुष, तेरा शेष काम, लगभग वह भी पूरा हुआ।।

सुकून मिला होगा तुमको , तीन सौ सत्तर हट जाने से ।

माँ भारती की आँचल से, उस धब्बे को मिट जाने से ।।

यूँ, समय बहुत ज्यादा लग गये, इन बातों को सल्टाने मे ।

थी सिर्फ कमी इच्छाशक्ति की, इस धरा को स्वर्ग बनाने में।।

विलंब हुआ, माँ माफ करो, करबद्ध प्रार्थना करता हूँ।

क्षमा करो गुस्ताखी माँ, नम्र निवेदन करता हूँ ।।

तब समय नहीं लगना था ज्यादा, शायद दो दिन ही थे काफी।

पर समझ न पाये पंडित जी तब, निर्णय ले ली गैर-मुनाफी।।

थे पाँच सौ बासठ टुकड़े तब, सबको साथ मिलाया ।

इन टुकड़े को बाँध साथ एक, भारत देश बनाया ।।

अड़चन कितने आये मग में , सबसे स्वयं निपटकर।

लौहपुरुष ने दम मारा था, भारत एक बना कर ।।

जम्मू-कश्मीर की बची कहानी, थी बस पूरी होनी।

पण्डित जी की गलत पहल से, हो गई पर अनहोनी।।

संविधान के जिस धारे से, कश्मीर पृथक सा पड़ा बना।

आज इसे हट जाने पर, भारत भूमि कुछ पूर्ण बना।।

सपना है, अब जल्दी ही, बाकी कश्मीर जुड़ेगा।

भारत भूमि एक हो सच, जग का सिरमौर बनेगा।।

अब भी संभल जा चीन

सच्चिदानन्द सिन्हा

अब चांद जा कहीं सो गया, दिन-रात चलता थक गया।

जाने कहाँ गयी चांदनी , घनघोर अंधेरा छा गया ।।

आती नजर में कुछ नहीं ,सर्वत्र तम का राज है ।

सद्भावना तो लुप्त हुई, दुर्भावना बस व्याप्त है ।।

निशाचरों का दौर मानो , अब धरा पर आ गया ।

भूत औ बैताल का ,आधिपत्य जग पर छा गया।।

कीड़े-मकोड़े भक्ष करके, जानवर ही बन गया ।

उपहार कोरोना का दे, सारे जग में मातम छा दिया ।।

आहार का प्रभाव मन पर ,क्या है पड़ता, देख लो ।

इंसान ही इंसान के, पीछे पड़ा है, देख लो।।

इंसान तो लगता नहीं , बस आदमी का रूप है ।

कब धरेगा रूप कैसा , यह महज विद्रूप है ।।

बात है कोई नई नहीं , है युग-युगों से आ रही।

बुराई ने अच्छाई पर , कहर सा बरपा रही ।।

अच्छाई की पर जीत होती , यही अंतिम सत्य…

View original post 73 और  शब्द

ज्ञानी मचाते शोर नहीं .

सच्चिदानन्द सिन्हा

चाहता विध्वंस वही , जो निर्माण कर पाता नहीं।

आसान है विध्वंस करना, निर्माण पर आसाॅं नहीं।।

जिसने बनाई सृष्टि सारी , उसको समझ पाया नहीं।

क्या बनाया, क्यूँ बनाया , भेज़े में घुंस पाया नहीं ।।

देखा नहीं जिसको अभी तक,तेरी सोच में जो गया नहीं।

अज्ञानता की दौड़ में, भटके पड़े होंगे कहीं ।।

ज्ञान जिनमें हो भरा , कहकर बताते हैं नहीं ।

पड़ती जरूरत जब कभी, करके दिखाते हैं वही।।

बकवास करते वे रहे, संदिग्ध जो होते वही।

जिनका भरोसा हो अटल,शांत रहते हैं वही।।

खाली ही बर्तन है खनकता,शांत है रहता नहीं।

भर जाए जो बर्तन, कभी नाहक खनक करता नहीं।।

नकली चमकते हैं अधिक,असली कभी उतने नहीं।

नकली चमक पर है क्षणिक,असली कभी उतरे नहीं।।

हंडिया बराबर काठ का , है चढ़ा करता नहीं ।

झूठ कैसा भी हो, आगे सच के टिक सकता नहीं।।

जो लोग कम कुछ जानते, समझाये समझ पाते नहीं।

View original post 29 और  शब्द

देख यही कलियुग का खेल

बाबूजी द्वारा रचित आज की वस्तुस्थिति का चित्रण करती एक खूबसूरत रचना पुनः पेश कर रहा हूँ। आशा है, आप सब पाठकों को पसंद आये।

सच्चिदानन्द सिन्हा

देख ज़माना बदल गया,

हैं बदल गए अब सारे खेल,  देख यही कलियुग का खेल I

पुत्र पिता पर धोंस जमाए,

सुने न तो फटकार लगाए,

डपटे, झपटे, मुर्ख बताए,

चलता उल्टा खेल, देख यही कलियुग का खेल I

पुत्र पिता का पेंशन लाए,

जहाँ -तहाँ दस्तखत कराए,

सारा माल हड़प कर जाए,

हर दम चलता रहता  खेल, देख यही कलियुग का खेल I

बापू यदि विरोध जताए,

दस्तखत को धता बताए,

अपना गर अधिकार जमाए,

देता बेटा घर में ‘सेल’, देख यही कलियुग का खेल I

बुड्ढ़ा, जीवन में किया ही क्या,

खाया-पिया और ऐश किया,

केवल पेंशन ही है लाता,

प्रोग्राम, कराता है हर फेल, देख यही कलियुग का खेल I

बुड्ढ़ा नौकरी में मर जाता,

उसका क्या काम बिगड़ जाता,

मुझे तो नौकरी मिल ही जाती,

जिया, बिगाड़ा खेल, देख यही कलियुग का खेल.

पाठशाला सरकार बनाई,

उसमे कैसा नियम लगाई,

शिक्षक का है एक न चलता,

नहीं कर सकता किसी को…

View original post 144 और  शब्द

रात नहीं, तो चंदा कैसा

‘रात नहीं, तो चंदा कैसा’ मेरे पिता जी के द्वारा लिखी श्रेष्ठ रचनाओं में से एक है। उन्हीं के आशीर्वाद से मैं इस भावपूर्ण रचना को reblog कर रहा हूँ। आशा है, आपको पसंद आये।

सच्चिदानन्द सिन्हा

जब लोग बहुत ऊॅचे हो जाते, नीचे वाले छोटे दिखते।

जरा आसमान में जाकर देखें, सबके सब बौने दिखते।।

हो जो जैसा, दिखता वैसा,वही नजर अच्छी होती।

हो जैसा पर दिखे न वैसा, दृष्टिदोष यही होती।।

आज जमाना ऐसा है, नजरें धोखा खा ही जातीं ।

होता कुछ, है नजर कुछ आता,अक्सर भूल यही होती।।

किसके अन्दर क्या है बैठा,नजर कहाॅ किसी को आता।

बाहर से है जैसा दिखता, कहाॅ वही भीतर होता।।

अंदर-बाहर एक हों, ऐसे लोग बहुत कम होते।

अंतर्मन में कचरा भर, बाहर से अच्छे दिखते।।

लोग बहुत ही विरले होते, देख नजर जो भाप सकें।

अन्दर है क्या राज छिपा, देख नजर से जान सकें।।

छोटा कौन ,बड़ा कौन है, वक्त-दशा का होता फर्क ।

कितने बड़े-बडों का इसने, कर डाला है बेड़ा गर्क ।।

सब का अलग नजरिया होता, सोच सबों का अपना होता।

महत्व सबों का अलग-अलग, वक्त सबों को देता रहता।।

जहां पर…

View original post 57 और  शब्द

गौतम बुद्ध

2015 के पन्नों से पिताजी की एक और रचना पुनः प्रस्तुत है। भगवान गौतम बुद्ध के जीवन-दर्शन की झलक दिखाती ये रचना आशा है, आप सब को पसंद आये।

सच्चिदानन्द सिन्हा

कपिलवस्तु के राजघराने

में तूने था जनम लिया I

सिद्धार्थ पड़ा था नाम तुम्हारा

तूने कर्म महान किया II

न ठाठ राजसी था तेरा

केवल थे कर्म महान I

सदा लगा था रहता तेरा

सदाचार पर ध्यान II

जीवन में घटना कुछ ऐसी

देखा और गंभीर हुआ I

ध्यान लगा सोचा जो उनपर

आगे चल वही महान हुआ II

घटना यूँ नहीं अजूबा कोई

सदा घटा करता है I

मानव मरता जब, सजा ज़नाज़ा

मरघट तक जाता है II

नज़र पड़ी सिद्धार्थ की उसपर

बुलाया, पूछा,  ये क्या है I

चार व्यक्ति मिल ले जाते हो

बता, मामला क्या है II

बात बतायी उसने सारी

अच्छे से समझाया I

मानव मरता, है जाना पड़ता

बातें सारी बतलाया II

आगे देखा, एक भिखारिन

दिन-हीन  थी हालत उसकी I

पूछा उसके पास पहुंचकर

जानी सारी  बातें उसकी II

मन में घटनाएँ घर कर गयीं

ढेरों प्रश्न उठे मन में I

जाग उठी…

View original post 262 और  शब्द