जनता देखती पर चुप रहा करती.

रुधिर तो खौलता रहता ,मुख से कुछ नहीं कहता ।
सुनाना चाहता भी तब ,नहीं कोई सुना करता।।

बारूद का गोला , कभी जब फूट पड़ता है ।
धधकती अग्नि बन शोले ,कवच को तोड़ देता है।।

बैलेट जब निकलते हैं , दिग्गज डोल हैं जाते।
कुर्सी घिसक उनकी, जमीं पर है नजर आते ।।

अचानक आसमा्ँ से गिर,जमीं पर आ तभी जते।
उनका ताज तत्तक्षण ही सर से उतर जाते ।।

आम सा एक नागरिक, बन तभी जाते ।
मुफ्त मे ऐश करते थे , वे सब कुछ चले जाते।।

नशा जब तख्त का उनका ,टूटकर दूर हो जाता ।
कुछ चाल मस्तिष्क फिर नया,कुछ ढ़ूँढ़ है लेता ।।

मकसद सिर्फ है उनका ,गद्दी को पकड़ रखना ।
जनता भाँड़ में जाये ,मतलब क्यों भला रखना ।।

अगला फिर समय आये ,शगूफा फिर निकालेगें ।
चतुर होते बडे खुद ये ,नया फिर कुछ निकालेगें ।।

पता है खूब इनको ,कब किसे कैसे फँसा लेना ।
दवा कब कौन सी दे कर ,मर्ज को है भगा देना ।।

फँसाने में लगे रहते, नया कोई जाल फैलाते ।
सभी रुठे हुओं को ,प्यार से उसमें फँसा लेते ।।

मीठी बात में उनकी ,झलकता प्यार सा होता ।
सब तो जानकर भी ,जाल में उनका ही फंस जाता।।

इसी तरकीब से हरदम, उनका काम चल जाता ।
बना कर मूढ़ जनता को ,सफल अभियान हो जाता।।

न जाने क्या सुना देते.

न जाने लोग दुनियाँ में,क्या क्या सुना देते ।
पते की बात अपनी भी ,कहकर बता देते ।।

यह दुनियाँ अनोखी है, अनोखे लोग हैं इसमें ।
घुमा कर बात को अपनी,जो चाहे कह सुना देते।।

कला है लोग की अपनी, माहिर जो हुआ करते।
खोटी चीज को पैकिंग लगा, सुन्दर बना देते ।।

काफी पुरानी जो कहानी, भी कभी होगें सुने ।
नये अंदाज में कहकर ,तहलका ही मचा देतै ।।

दवा के नाम पर भी लोग ,क्या से क्या किया करते।
सत्तू कैप्सुल में भर , दवा का नाम दे देते ।।

संतुष्टी पर नहीं उनको ,इतने से हुआ करती ।
कमीशन डाक्टर को दे ,नुस्खे में लिखा देते ।।

दूध में पानी मिला ,जो बेंच देते थे कभी ।
मिला अनिष्ठ चीजों से ,दूध ही अब बना देते।।

मिला करते बजारों में ,मिष्ठान मेवा जो कहें ।
गायों-भैस का मावा भला उसमें कहाँ होते।।

अभी थै आदमी ही आदमी ,पैदा किया करते ।
जमाना आ रहा अब ,ट्यूब ही बच्चा दिया करते।।

जमाना आ गया विज्ञान का,बदलता जा रहा सब कुछ।
बदल कर आदमी अब क्या करेगा,कह नहीं सकते??

रहने को सभी मजबूर हैं , माहौल में ऐसा ।
अब तो चाह कर भी आप उसे,बदल नहीं पाते।।

लतीफे कुछ सुना कर आज ,शायर बन अगर जाते।
सिवा कुछ मसखरे के ,अन्य वे कुछ कर नहीं पाते ।।

सभी नाचते ,समय नचाता

समय कभी भी नहीं किसी का,इन्तजार है करता ।
क्या राजा क्या रंक सबों पर ,दृष्टि एक ही रखता।।

प्रकृति समदर्शी होती ,भेदभाव तो तनिक न रखती।
नजरों में उनकी सारी जगती,सदाही एक दिखा करती।।

नाना प्रकार के जीव जन्तु ,पौधों पेडों के भी प्रकार।
सचर अचर हों जितनें सारे,सबसे रहता है इनको प्यार।।

जितनी भी हों चीजें सारी ,सबका निर्माता प्रकृति ।
प्यार सबों को यह करती,बिन भेद न कोई विकृति।।

कहीं प्यार से फूल खिला ,रंग सुगंध क्या भर देती।
रंगीन तितलियाँ,गुँजन भँवरों का,उसमें मस्ती ला देती।।

कुछ अन्य मधुप भी मंडराते, अठखेली फूलों से करते।
मधु का रसपान तो करते ही निषेचन भी उनका करते।।

क्या दृश्य गजब का आताहै,मघुमास अजबका ढ़ाता है।
भरता नवयौवन जीवों में,हर कण ही तब मुस्काता है।।

पर यह भी सदा नहीं रहता,समय भी मारन कम देता।
होती विलीन सब सुन्दरता,शुष्क धरा का वय होता ।।ल

फिर भी समय नहीं रुकता,हरक्षण,प्रतिपल बढ़ता जाता।
निरंतर ही अपनी गतिसे,तय मग अपना करता जाता ।।

यह सदा देखता रहता सबकुछ,कुछनहीं बोलता वह पर।
ध्यान सभीपर वह रखता ,बस मूकदर्शक एक बनकर।।

पर नहीं छोड़ता कभी किसीको,मुखदेखी कुछन करता।
सब के कर्मों का सही फैसला,निर्भीकता से कर देता।।

सबके सब झुकते इसके आगे,चाहे बडाहो याहो छोटा।
सभी नाचता,यही नचाता, आगे उनके बन कर छोटा।।

शान्ति के हम प्रवल पुजारी.

सच्चिदानन्द सिन्हा

रहा शान्ति के प्रवल पुजारी, भारत मेरा देश ।

देते आये हम्हीं सदा से , शान्ति का उपदेश ।।

जीवन जीनें का सही तरीका ,लोगों को समझाया ।

कुछ देश पड़ोसी के भी मन को,प्रभावित कर पाया।।

‘जियो और जीने दो का ‘ , मंत्र सदा बतलाया ।

‘घृणा पाप का मूल है ‘, लोगों को समझाया ।।

बैर नहीं करना सिखलाया , शान्ति से जीना बतलाया।

काफी विकसित थे ज्ञान क्षेत्र मेंं ,अन्य देश को भी दिखलाया।।

शक्ति सारी निहित थी हममे, सभी ज्ञान में थे प्रवीण।

गूढ़ लोग को थे समझाते , युद्ध न कुछ देता निदान ।।

शक्तिशाली की बात ,लोग को प्रभावित करती है ।

दुर्बल चाहे लाख ज्ञान दे, असर न कर पाती है ।।

‘भय बिन प्रीत नहीं होती ,’ लगता अकाट्य कथन है ।

सज्जन की बात अलग कर दें ,दुर्जन पर सत्य कथन है।।

अपनी अर्जित शक्ति की भी , प्रदर्शन करना…

View original post 121 और  शब्द

शान्ति के हम प्रवल पुजारी.

रहा शान्ति के प्रवल पुजारी, भारत मेरा देश ।

देते आये हम्हीं सदा से , शान्ति का उपदेश ।।

जीवन जीनें का सही तरीका ,लोगों को समझाया ।

कुछ देश पड़ोसी के भी मन को,प्रभावित कर पाया।।

‘जियो और जीने दो का ‘ , मंत्र सदा बतलाया ।

‘घृणा पाप का मूल है ‘, लोगों को समझाया ।।

बैर नहीं करना सिखलाया , शान्ति से जीना बतलाया।

काफी विकसित थे ज्ञान क्षेत्र मेंं ,अन्य देश को भी दिखलाया।।

शक्ति सारी निहित थी हममे, सभी ज्ञान में थे प्रवीण।

गूढ़ लोग को थे समझाते , युद्ध न कुछ देता निदान ।।

शक्तिशाली की बात ,लोग को प्रभावित करती है ।

दुर्बल चाहे लाख ज्ञान दे, असर न कर पाती है ।।

‘भय बिन प्रीत नहीं होती ,’ लगता अकाट्य कथन है ।

सज्जन की बात अलग कर दें ,दुर्जन पर सत्य कथन है।।

अपनी अर्जित शक्ति की भी , प्रदर्शन करना पडता ।

‘नष्ट तुझे भी कर सकता ‘ का, भय भी दिखलाना पडता है।।

दुष्टों की उसकी भाषा में ही , समझाना पड़ता है ।

अगर जरूरत पड़ी छड़ी को , चमकाना पड़ता है।।

यह बात नहीं है कोई नयी , है तो यह बहुत पुरानी ।

करते आये लोग युगों से , बन कर रह गयी कहानी।।

हर बातों में झगड़ा डालो ,कुछ हासिल हो जायेगा ।

नहीं चाहते लोग झगड़ना , कुछ न कुछ मिल जायेगा।।

अगर अकड़ कर हम भी हो गये , लड़ने को तैयार ।

भाग खड़ा हो जायेगा फिर , अपना पैर कबाड़ ।।

प्रायः पाक यही काम तो , अक्सर करता है जाता ।

अगर अकड़ कर देते टक्कर, भाग खडा वह हो जाता।।

कहाँ गयी वह गौरैया?

कहाँँ गयी तूँ गौरैया , कहाँँ गयी ओ गौरैया ………

फुदक फुदक कर आँगन में तूँ, आज न दौड़ लगाती है।

घर के वातायन के ऊपर ,अब बैठी नजर न आती है ।।

तूँ कितना प्यार किया करती थी, जिधर-तिधर फुदकी करती थी।

घुली-मिली परिवार का एक,अभिन्न सदस्य बनकर रहती थी।।

कभी बच्चों के संग में जा , रैग रैग दानें चुँगती थी ।

कभी बाल कंधों पर उनके ,बैठ बैठ खेला करती थी।।

करती चूँ-चूँ अपने झुँडो में ,आज नहीं क्यों दिखती है?

चली कहाँ गयी हमें छोड़ , क्यो नहीं फुदकती रहती है??

क्या परेशान किया कोई , बिदक क्यो भाग गयी हमसे ?

कुछ खास बिगाड़ा है हमनें , क्या इसीलिए रूठी हमसे??

तुझे लुप्त होते जाना है , यह काफी चिंता की बात ।

यह साधारण सी बात नहीं, कारण तो करना होगा ज्ञात।।

जरा ध्यान दें बुद्धिजीवी ,थोडा़ करें मनन इसको ।

लुप्त न होवे ,इसे बचा लो , संरक्षण दे दो इसको ।।

ऐ गौरैया, छोटी चिड़ियाँ , हो तुम प्यारी हमसब के ।

साथ निभाती आयी हरदम , न जाने तुम कब हम से।।

बनता है कर्तव्य हमारा, मदद तुम्हें करनें का ।

तेरी आफत ढ़्ँँ ढ़ -ढ़ूँढ़ , तुम्हें संरक्षण देनें का ।।