गौतम-बुद्ध (मगही)

कपिलवस्तु के राजघराने , में गौतम-बुद्ध जनम लेलन।
उनकर नाम सिद्धार्थ परल, कामों ढेर बड़ा कयलन ।।

न ठाट राजसी हल उनकर , कैलन सब काम महान ।
लगल रहल हर दम उनकर , सदाचार में ध्यान ।।

जीवन में घटना कुछ देखलन, देख देख गंभीर भेलन ।
गंभीरता से सोंचलन ओकरा , ओही सोंच महान होलन ।।

घटना कोई अजूबा न हल , घटते हरदम ही रहे हे ।
मर गेला पर सजा जनाजा , मरघट तक ले जाहे ।।

कंधा दे के चार आदमी , उनका के पहुँचावे हे।
मरघट पर ले जा कर के उनकर,अंतिम संस्कार करावे हे।।

नजर परल सिद्धार्थ के ऊपर,जा के एकर कारण पूछलन।
चार आदमी के ढ़ोवे के , उनका से सब कुछ जनलन ।

जान गेलन सब बात और, सुन के काफी गंभीर भेलन ।
काहे मर जा हथ लोगन , यही बात सोंचे लगलन ।।

देखलन आगे एक भिखारिन, दीन-हीन हालत देखलन।
जा के ओकरा पास पहुँच ,ओकर बारे में सब जनलन ।।

सब बतवा के जान बूझ के , ओकरे पर सोंचे लगलन ।
काहे अदमी मर जा हेवे ,दिन रात येही सोंचते रहलन।।

भिड़ गेलन एकरे जाने मे , आखिर ई जीवन का हे ।
मानव जीवन भर दुखी रहे हे ,आखिर ऐकर कारण काहे।।

राज- पाट सब छोड़ छाड़ ,दिन रात एही सोचे लगलन ।
एकर अलावे और न कुछ हू , मनवाँ में राखे लगलन ।।

त्याग देलन सुख राजपाट के, त्यगलन सभी रजोगुण के।
मयिया तो पहिले मरगेलथिन त्यगलन मौसी माँ गौतमीके।

यशोधरा पत्नी के त्यगलन ,त्याग देलन सुत राहुल के ।
भौतिकता के सुखो त्याग के ,जोड़लन खुद के रचयिता से.

त्याग के सब कुछ चल देलन, फल्गू तट गया के पास ।
बैठ वहीं पीपल के नीचे, ले के ध्यान पिपास ।।

ध्यान लगयलन मन मस्तक से ,आत्म समर्पण कर के ।
ज्ञान मिलल, बुद्धत्व मिलल, बन गयलन बुद्ध बुद्धि पा के।।

माँ गौतमी के गोद मे पललन ,ओही से गौतम नाम परल।
आगे चल के एही  कारण से ,गौतम-बुद्ध हल नाम परल ।।

मार्ग देखवलन गौतमबुद्ध जो , बुद्ध धर्म कहलावे हे ।
भारत मे परचार तो कम भेल, बाहरे धूम मचावे हे ।।

घर के मुर्गी दाल बराबर , लोग बनौले रखले हे ।
कारण का हे पीछे एकर, बिषय गुप्त ही रखले हे ।।

कुछ देशन भारत के बाहर , दिल से एकरा अपनैले हे ।
परम -पावन अति मान के एकरा,दिल से गले लगैले हे।।

महान अशोक सम्राट धर्म में ,अइसन नेह लगयलन हल।
चीन ,जापान, लंका ,बर्मा मे, एकरा के फैलैलन हल ।।

बहन संघमित्रा के देलन हल, भार एकरा फैलावे ला ।
जा के सबमें बुद्ध-धर्म के, गूढ़ तत्व समझावे ला ।।

मठ बनवयलन ढेरों सारे , दे के नाम बिहार ।
ऐही से अप्पन प्रदेश के, पड़ गेल नाम बिहार ।।

पर ई बिहार के न हे खाली , आदमीयत के ज्योति ।
सदा सर्वदा रहत चमकते, जैइसन हीरा -मोती ।।

शांति, प्रेम, अहिंसा से, जीवन के राह देखवलन ।

अद्भुत जीवन दर्शन देलन, बतवा सब समझवलन।।

काश बतावल राह पर उनकर, दुनियाँ आज चलत हल।
अमन चैन के बंशी बजत हल, घर घर घीउ के दीप जलत हल।।

गौतम-बुद्ध (मगही)&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s