तेरी रचना को क्या बोलूं

प्रकृति तेरी रचना को , बता क्या बोलूं ।

अथाह को थामना चाहा , बता कैसे भला थाहूं।।

अथाह सागर में तेरा , छोटा सा तिनका हूं कहीं ।

मेरी विसात ही क्या , आता नजर साहिल भी नहीं।।

कहां जाना है मुझे , मुझे पता भी ही नहीं ।

जहां तूं चाहता मुझको , बहा देता था वहां ।।

मेरे जीवन का ,तेरे हाथों के सिवा , पतवार कहां?

तेरी मर्जी के बिना , मुझे और कहीं जाना ही कहां??

फिक्र करना भी यूं ही , मेरी फितरत में नहीं ।

फ़िक्र करने की मुझे , है जरूरत भी नहीं ।।

जहां तूं चाहता , मुझे ले जा तूं वहीं ।

तुमसे कोई आरज़ू , या कोई शिकवा भी नहीं।।

तेरा उत्पाद हूं मैं , चलती भी बस ,तेरी मर्जी ।

न कोई फिक्र मुझे , न कोई अपनी मर्जी ।।

तेरे सिवाय मुझे , आता नहीं कुछ भी है नजर ।

जिधर भी देखता तूं ही तूं , आते हो नज़र ।।

सिर्फ मैं जानता , जो तुम मुझे बताते हो ।

सिर्फ देखा भी वही , जो कुछ मुझे दिखाते हो।।

नहीं कुछ चाहिए तुझको , सिवा जो देते मुझे ।

तुम्हीं तो देते सदा , जो पड़ती , जरूरत है मुझे।।

मुझे न चाहिए , जो भी दिया उससे ज्यादा ।

बची न कामना मेरी ,न रहा ही इरादा ।।

कुछ नहीं चाहिए मुझको , न जरूरत ही बची ।

प्रकृति तूने दिया सब कुछ , तूं सब कुछ ही रची ।।

खुशी या गम .

दिल में भरे गम या खुशी , आंखों ने छिपा ली होती।

राज तो राज ही रहता , गर जुबां फिसली नहीं हौती।।

गमों को दाबकर रखना , बहुत आसान नहीं होता।

खुशियों को नहीं बांटें , बड़ा परेशां किया करता।।

खुशी हद से अधिक ज्यादा ,या गम भी बहुत ज्यादा।

जाहिर किया करती छलक , आंखें अधिक ज्यादा ।।

मामला बड़े दोनों ही , संगीन हो गयी होती ।

अब्यक्त रखना भी , कठिन हो गयी होती ।।

यही जो जिन्दगी होती ,मिलती यही जीवन का मजा ।

लिया न लुफ्त हो जिसने ,समझा नहीं जीवन का फिजा।।

जो बौरा डूबते तह तक , रत्न कुछ खोज लेते हैं।

गूढ़ जिन्दगी जीने का , कुछ पा ही लेते हैं ।।

खुशी या गम ही तो , जीवन के दो किनारे है ।

गले मिला जो चले दोनों से , चतुर हैं न्यारे हैं।।

काश दोनों को , एक नजरों से ही देखी होती ।

खुशी या गम को , तरजीह बराबर दी होती ।।

आज का ये दिन , जीवन में न आया होता ।

गम भी तो आज नहीं , सताया होता ।।

खुशी या गम तो , जीवन के दो किनारे है ।

एक दूजे का , पूरक हैं, और सहारे हैं ।।

जिसने गम देखा नहीं , उसे खुशियों का एहसास कहां?

खुशी करता चीज है होती , सुनी है , महसूस कहां ??

किये का भरना पड़ेगा.

खाते ही अक्सर चोट हैं, अपने सगे ही लोग से ।

वेदना होती अधिक, अपनों की दी हुई चोट से ।।

है यह जमाने का असर , क्या धूर्तता बढ़ गयी यहां ।

कराहता ईमान अब है , धूर्तो की ही चलती यहां ।।

चोर और बेईमान जन का , सम्मान होता आज है ।

जिनमें बची ईमान उनको , पूछता अब कौन है ।।

उल्टा पवन ही बह रहा , बेईमान पैदा हो रहे ।

सज्जनों का आज जीना , दूभर अति ही हो गये ।।

कलियुग जिसे हैं लोग कहते ,शायद वही है आ गया ।

हुई हंस की हालत बुरी ,‌ कौवा को मोती मिल गया ।।

सराहना करते उन्हें , अघाते तनिक नहीं लोग हैं।

कहते ‘बड़ा वह आदमी ‘है , रिश्र्वत कमाता रोज है।।

रिश्र्वत कमाना लोग के , दिलों को ऐसा भा गया ।

ब्यभिचार , चोरी और डकैती , व्यवसाय में अब आ गया।।

दिवालिया बन रही गया , मानसिकता ही देश का ।

माफिया को कर चयन , नेता बनाते देश का ।।

हम डुलाते पूंछ अपनी , देते वे टुकड़े फेंक कर ।

बेशर्म सा हम नमन करते , उन्हें दूर से ही देखकर।।

संख्या उसी की बढ़ गयी , उनका ही चलता राज अब ।

किनको बुरा अब बोलियेगा , उनको दिया सरताज अब।।

ईमान अपना बेंचकर , बदतर किया जो काम तुमने।

तैयार रह खुद भोगने को , जितना किया कूकर्म तुमने।।

अपने किये कूकर्म का फल , भोगना तुमको पड़ेगा ।

मौजें उड़ाया है उड़ाया है ,उड़ा ले , किये का भरना पड़ेगा।।

मित्रता

मित्र सच्चा गर मिले तो , मित्रता अनमोल है ।

हीरे , जवाहर , मोतियों से ,अधिक इसकी मोल है ।।

बना नहीं अबतक तराजू , मित्रता को तौल दे जो ।

ना बाट इतना है बना , इसके वजन को तौल दे जो।।

बेजोड़ होती मित्रता , जोड़ इसका है नहीं ।

बराबरी इसकी जगत में , कोई कर सकता नहीं।।

मित अनेकों तो जगत में , पर श्रेष्ठ इनमें कौन है।

उतरे कसौटी पर खड़ी जो ,पवित्र पावन कौन है ।।

उपर बहुत मानव की श्रेणी , से रहा इन्सान होगा ।

मानव उसे कहना उचित क्या ,साक्षात वह भगवान होगा।।

कृष्ण-सुदामा की जगत में , दोस्ती मशहूर है ।

युग -युगों से आ रही , मिशाल ये बेजार है ।।

संसार में जब तक रहेगा , गाथा अमर उसका रहेगा।

जुबान पर हरलोग की , मिशाल बन छाया रहेगा ।।

मित्रता की बात होगी , लोग उसका नाम लेंगे।

क्या महत्ता दोस्ती की ,लोग इसको जान लेंगे ।।

लें लें अगर थोड़ा सबक , कल्याण होगा लोग का ।

इन्सान की इंसानियत , चमके गगंन में लोग का।।

आज ऐसी दोस्ती , जग में नहीं बदनाम होगी ।

कीर्ति अमर हो कर रहेगी , दोस्ती की शान होगी।।

अफसोस , किन्तु आज ऐसा , मीत कम मिलते यहां।

पवित्रता की पूट इसमें , अब कहां मिलता यहां ।।

असत्य ही सत्य नजर आते.

प्यार से देखिए चाहे जिसे , प्यारा नजर आता ।

नज़रें जिधर भी डालिये, न्यारा नजर आता ।।

नज़रिया हर की है अपनी , सबों की सोच अपनी है ।

अच्छा या बुरा जो देखते,सोच अपनी नजर की है ।।

बुरा कुछ भी नहीं होता , बुरा कोई क्यो बनायेगा।

श्रम निर्माण कर्ताका नहीं , क्या ब्यर्थ जायेगा ।।

जितनी चीज लगनी हो , सभी तो चीज लग जाती ।

बुरी चीजें बनाने में , उन्हें क्या चीज़ बच जाती ।।

यहां हर चीज अच्छी है , नजर का सोच पर होता।

जिसै जिस ढंग से देखें , नजर वैसा उसे आता ।।

दिखाई जो जिसे देता, सदा क्या सत्य ही होता ।

मृग-मिरीचिका तो सर्वदा असत्य ,असत्य ही होता।।

अपनी नजर जो देखती , क्या सत्य ही दिखता ?

दिखे मरूभूमि में पानी सदा , असत्य ही दिखता।।

नजर खाती कभी धोखा , बुद्धि फंस वहीं जाती ।

असत्य को ही सत्य , बुद्धि ज्ञान है लेती ।।

नतीजा ही उलट जाता , फैसला गलत हो जाता ।

सत्य पर असत्य भारी , हो तभी जाता ।।

आंखें देखती उस बात को ही , सत्य कह देना ।

नहीं संदिग्ध क्या लगता ,असत्य को सत्य कह देना ।।

किसी को देखते ही फैसला , देना नहीं अच्छा ।

परख कर जांच कर दें फैसला,होगा वही अच्छा।।

इसकी अहमियत होती ,मौत या जिन्दगी मिलती ।

अति गंभीरता से लें ,जो जाती फिर नहीं आती ।।

मधुर यादें ज़िन्दगी की

यादें मधुर कुछ ज़िन्दगी की ,दिल से कभी जाती नहीं।

दिल को हंसाती या रुलाती , पर त्याग कर जाती नहीं।।

साथ देती जिन्दगी भर , यह हमें हर हाल में ।

सुख की घड़ी हो या गमों की , देती सुकून हर हाल में।।

मीत सच्चा तूं सबों का ,प्यार का एहसास तूं है ।

जिन्दगी निर्बाध तुमसे , संजीवनी पर्याय तूं है ।।

दे हर पलों में साथ सब का ,और ऐसा कौन होगा?

उलझनो को झट मिटा दे , मीत ऐसा कौन होगा ??

जग में नहीं इन्सान जैसा , यादें मधुर जिनको नहीं?

साथ पल या कुछ पलों का , या यों कहें लम्बा नहीं??

यादें मधुर आनन्द लेती ,कड़वी सताती आज तक ।

आती कभी जब याद कड़वी ,रुला देती आज तक ।।

यादें मधुर रस घोलती है , जिन्दगी जाती सुधर ।

जो लोग करते रसास्वाद़न, अनुभूति होती है मधुर।।

यादें मधुर बरदान होती , रस मधुर देती सदा ।

आनन्द भरती ज़िन्दगी में ,नवशक्ति भरती है सदा।।

नीरस न होती जिंदगी ,उत्साह नव भरती सदा ।

दुख भी अगर आता कभी , भागता उससे सदा ।।

रस न हो जिस जिन्दगी मै, जिंदगी बैकार होती ।

रस से भरी हो जिन्दगी, वह जिन्दगी साकार हौती।।

जिन्दगी की मधुर यादै , जिंदगी खुशहाल करती।

आनन्द ही आनन्द करती , जिन्दगी में रंग भरती।।

संबल सही यह ज़िन्दगी की, कोई अन्य ऐसा है कहां ?

खोजकर थक जायेंगे , पर पायेंगे ऐसा कहां ??

दिल चाहता जिसे भूलना.

दिल चाहता जिसे भूलना , भूल पर पाता नहीं ।

चाहूं, निकालूं और फेकूं , फेंक पर पाता नहीं ।।

ये दिल अनोखी चीज है ,यह चाहता करता नहीं ।

दिल में जगह देना न चाहा ,दिल से निकला ही नहीं।।

बन चुकी जिसकी जगह , दिल से तुरत हटता नहीं ।

हट भी अगर जो जायेगा ,चिन्ह पर मिटता नहीं ।।

जब भी दिखेंगी चिन्ह मुझको, याद तेरी आयेगी ।

जिसको था चाहा भूलना , यूं याद यह दे जायेगी ।।

आसान नहीं दिल से मिटाना , कोई मिटा पाता नहीं ।

दाब दें इसको भले , पर पूर्ण मिट पाता नहीं ।।

दिल की बनावट है यही , अबतक तो बदला है नहीं ।

अबतक न कोई पैदा लिया , आगे का कह सकता नहीं ।।

चाहे घृणा कि भाव हो , कुछ प्रेम का ही अभाव हो ।

या चोट गहरी दी गयी , उस चोट का ही स्वभाव हो ।।

घाव तो भरते रहेगें , समय का प्रभाव है ।

दर्द तो कमता रहेगा ,ये दवा का प्रभाव है।।

जख्म तो मिट जायेंगे , पर चिन्ह अपना छोड़ कर ।

दर्द भी कमता कभी पर , याद अपनी छोड़ कर ।।

यह ज़िन्दगी भर तक रहेगा , चिन्ह कभी मिटता नहीं।

गर जिन्दगी अगली मिलेगी ,कोई कह इसे सकता नहीं ।।

प्रेम नाजुक चीज है , दर्द सह सकता नहीं ।

चोट हल्की भी लगी तो , बेचैन कम करता नहीं ।।