अगर दुनियाॅ तुम्हीं बनाये हो.

खुदा ये सच है अगर, दुनियाॅ तुम्हीं बनाये हो ।

उनके हर एक कण में, रहते तुम्ही समाये हो ।।

फिर भी रहे क्यों गम हमे,दुनिया में दुनिया वालों।ं

रहते जब हर पलों में , बनकर हमारे साये हो ।।

क्या जरूरत ही हमें , अपना सर खपाने की ।

रहे जो साथ ही जब , हरदम हमारा पालक हो।।

करता क्यूॅ हूॅ भला , गम की हमें जरूरत ही क्या?

फिर भी नादान दिल को, बेवजह जलाते हो ??

तेरी मर्जी के बिना , कुछ भी तो नहीं होता जगमें ।

जो भी होता है यहाॅ , सब‌ कुछ तुम्हीं कराते हो ।।

हम तो नाचते पर , केवल तेरे इशारों पर ।

सूत्र तो हाथों तेरे , जो चाहते करात हो ।।

करूॅ मैं फिक्र क्यूॅ , कतयी नहीं जरूरत हो।

छत्र की छाॅवों में , सब को तुम्हीं बिठाये हो ।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s