बस याद कर लेना.

लगा था दिल कभी मुझसे , भुला उसको नहीं देना।

मिले फुर्सत कभी थोड़ी कहीं,बस याद कर लेना ।।

चले हम साथ थे दोनों ,अब मुॅह फेर न लेना ।

सजा कर दिल के कोने में कहीं,पर रख मुझे देना।।

माना हम किनारा हैं ,नदी के दो तरफ दोनों ।

मिल सकते नहीं दोनों ,तो ख्यालों में बसा लेना।।

खुदा का शाप है अपना , नहीं मिल पायेगें दोनों ।

मिल गये गर कभी स्तित्व का, तय है मिट जाना।।

प्रेम का अंत कर देता मिलन, बढ़ने,आगे नही देता।।

विरह में धधक है उठता , मुश्किल रोक है पाना ।।

सुखद यादें जो कुछ होती ,वही आधार जीवन का ।

संबल बन यही जाता , जीवन पार हो जाता ।।

तिनके का सहारा भी , डूबतों को बचा लेता ।

यही तिनका सहारा बन , जीवन पार करवाता ।।