काश!बापू के राहों चलते!

खादी पर जोर दिया बापू ने,चरखा,तकली चलवाया।

लेकरकिसानसे बुनकर तकका,स्वरोजगार परध्यान दिया।।

कुटिर और उद्योग लघु पर,जोर सदा ये देते ।

पर अगली पीढ़ी एक न मानी,बातों पर ध्यान न देते।।

कर दरकिनार उनकी बातें,अपनी कर दी मनमानी।

छोटे उद्योगें बंद परे, फिरभी पर बात न मानी ।।

फलत: बेरोजगारों की,बढ़ती गयी संख्या भाड़ी ।

हुऐ उपेक्षित ,उद्योग-कुटिर , उद्योग खड़ी की भाडी।।

जो सिर्फ देखता उपर केवल,ध्यान नहीं नीचे देता ।

संदिग्ध संभलना होता उनका,गिरना लगभगतय होता

पडोसी दुश्मन चीन हमारा, नीति यही अपनाई ।

छोटे से ध्यान को बिना हटाये , चीजें भी बड़ी बनाई।।

छोटी सस्ती चीज बेंचकर,दौलत लिया बनाये ।

हम सब उनके ग्राहक बन, दौलतमंद उसे बनाये ।।

मेरी जूती मेरे सर मारा, तब हम अब पछताये ।

हमने ही भस्मासुर बनाया , तब क्या होगा पछताये ।।

याद करो बापू की बातें ,अगर उसे हम माने होते।

अपनी दुर्गती अपने हाथों,होरहे आज , नहीं होते ।।

आगे भी अभी सम्हलना है तो,उनकी राहें अपनाओ।

हम विश्वगुरू थेफिर बन सकते,सोंचो और बतलाओ।।

कुटिर उद्योग लगा कर अपनी, हालत स्वयं सुधारों ।

शत्रु का माल हम नहीं खरीदें, घर बैठे भस्मासुर मारो।।

इस भुख्खर को हम्हीं बढ़ाया,हमही इसको मार सकेंगे।

उनकी चीजें नहीं खरीद, घर बैठे,उनका संहार करेंगे।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s