हटायें लोभ का चश्मा.

दिल की ब्यथा किनको सुनाऊॅ,समझ में नहीं आता।

उचित है भी सुनाना या नहीं, कह भी नहीं सकता ।।

भरोसे पर खड़ा उतरें न उतरें, कह नहीं सकता ।

नहीं उतरी तो मुश्किल है पीड़ा,सह नहीं सकता।।

भरा बेचैनियों से दिल , सम्हाले सम्हल न पाता ।

चाहूं अगर शेयर करूॅ, कर भी तो नहीं सकता ।।

कहना उचित लगता नहीं, कहे बिन रह नहीं सकता।

बहुत ही कष्ट है दिल को, निवारण हो नहीं सकता ।।

दिलासा जो अगर देता, अनुचित ही लगा करता ।

दिलासा ब्यर्थ जायेगा, समझ में तो यही आता ।।

घटता दर्द है दिल का, समझ में तो नहीं आता।

पर कुछ लोग ऐसे हैं, जिनसे दर्द बढ़ सकता ।।

बहुत कमलोग हैं जगमें , सही जो राह बतलाते ।

रहे हों डूबते मजधार में , उसे उस पार पहुॅचाता।।

जगत में लोग जालिम है , जुर्म उनको बहुत भाता ।

डुबे है स्वार्थ में आकण्ठ , उन्हें परहित नही आता ।।

ईर्श्यालु मत्सरी ,लोभी , आज इन्सां नजर आता ।

तमोगुण से भरा मस्तिष्क, मानव का हुआ होता ।।

ब्यथा अपनी सुनाते जो , उसे क्या लाभ हो पाता?

बात को जानते सबलोग, क्षणिक संतोष पर होता ।।

पहन रखजो चश्मा लोभ का,उन्हें गड़बड़ नजर आता

रहता जो लघु वहभी उन्हें, विशाल ही दिखता ।।

चश्में को हटा देखें, असलियत सामने आता ।

उनका वास्तविक चेहरा , तभी स्पष्ट नजर आता।।

स्वप्न.

जो देखे थे सपने , संजोए हुए हैं ।

हुए जो न पूरे , बिखड़े पड़े हैं ।।

अभी तक ललक में, न आई कमी है।

थी जैसी ,अभी तक , वैसी ही पड़ी है।।

अपनी हिम्मत भी मैंने , हारी नहीं है ।

हौसला में कमी कुछ भी, आई नहीं है।।

बढ़ता ही जा रहा , हौसला रोज मेरा ।

कुछ न उत्साह में भी ,कमी है हमारा ।।

उम्मीद में भी न , आई कमी कुछ ।

घटने के बदले , बढ़ ही गयी कुछ ।।

स्वप्न देखा उसे , पूर्ण कर के रहूॅगा ।

धारना जो बनी है , बदल कर रहूॅगा ।।

लोग सपने को कोड़ा , सपना बताते ।

बे -मतलब की बातें , समझ उसको लेते ।।

सोंच में भूल उनसे , यहीं पर है होती ।

बातें प्रारूप की उनको ,समझ में न आती।।

बिन प्रारुप निर्माण , कहना है मुश्किल ।

प्रारूप आसान , करता है मुश्किल ।।

खाका बिना तो , भटकना ही तय है ।

खाका खिंचा हो , तो आसान मग है।।

सपने का एलबम तो , सब कुछ दिखाता ।

भला हो बुरा हो , जो हो सब दिखाता ।।

चयन इसमें करना , फिर आसान होता ।

निरखने , परखने का , अवसर तो देता ।।

पथ का प्रदर्शक बन , हरदम है चलाता ।

सोंयों को उठा कर , हर दम है बढ़ाता ।।

मानव एक सामाजिक प्राणी.

रिश्ते अक्सर बना करते , बनकर टूटते रहते ।

धागे, बाॅध जो रखते , हुए कमजोर नित जाते।।

ये धागा स्नेह का होता ,न जल्दी टूट यह पाता ।

मौसम तो बदलते हैं ,असर इस पर न हो पाता।।

समय के साथ दुनियाॅ में, बदलते सब चले जाते ।

बनें कमजोर धागों का , बंधन टूट खूद जाते ।।

मिलावट का ये युग आया,लोग सब आधुनिक हो गये।

बन्धन आधुनिक युग का ,बहुत कमजोर सा पड़ गये।।

बाहर से नहीं दिखता , पड़े कमजोर पर इतने ।

रेशे अलग सब हो गये , बिगड़े सब अलग कितने।।

धक्का सहन करने की , शक्ति कम गयी उनके।

लगी मामूली सी धक्का, सहन होती नहीं उनसे ।।

यही एक प्रेम का बन्धन , मनुज को जोड़ता रहता ।

जोड़ कर आदमी का ,परिवार,राज्य,संसार रच देता ।।

आदमी बस एक , सामाजिक प्राणि बन रहता ।

यह गुण अन्य जीवों में, उतना नहीं मिलता ।।

सामाजिक भावना जिनमें न हों, वह आदमी कैसा ?

बाहर से आदमी दिखता , भीतर जानवर जैसा ।।

अधिक दे ज्ञान मानव को , प्रकृति ने ही बनाई है ।

हर जीव से उत्तम बहुत , उनको बनाई है ।।

अपेक्षा भी रहा होगा प्रकृति को, इस जीव मानव से।

शायद ही मिल पाया उसे ,इस जीव मानव से ।।

कर दिखाती प्रकृति.

पुष्प खिलते वहॉ पर भी, जहाॅ माली नहीं होता ।

नहीं दर्शक जहाॅ होता , न रखवाला कोई होता ।।

वियवान भी उसके लिए, अजीब न होता ।

नहीं कोई सोंचने वाला , न कोई उर्वरक देता।।

विचित्र दिखता यह , बहुत आश्चर्य है होता ।

जहां मुश्किलसे आते लोग,खिला जब फूल है दिखता।

जब सोंचियेगा गौर से, तो सब नजर आता ।

बिचित्रता कितनी प्रकृति की , भान तब होता ।।

अति दुर्लभ भी पथ होते, वहाॅ कैसे पहुंच जाता ?

पखेरू भी न जा पाते, वहाॅ पर वह पहुंच जाता ।।

प्रकृति की करिश्मा को , न पूरा जानता कोई ।

अभी भी यह अधूरा है, यही है मानता सब कोई।।

विचित्र जगहों पर कभी , दिखती विचित्र चीजें।

देखा नहीं कोई कभी जो , वैसी विचित्र चीजें ।।

यह करिश्मा भी कभी, प्रकृति कर के दिखाती ।

असम्भव सी लगती चीज , सम्भव कर दिखाती ।।

जिसमें निहित हो सारी शक्ति,उसके लिये आसान सब।

असक को जो कठिन लगते ,सशक्त को आसान सब।।

प्रकृति ही केन्द्रविन्दू , उनमें निहित सब शक्तियां।

सामर्थ्य सब संभव कराती, सुधर जाती विकृतियां।।

प्रकृति का साथ देना, हम सवों का धर्म होता।

जिसने दिया सबकुछ हमें,उनको उचित सम्मानदेना।।

काश!बापू के राहों चलते!

खादी पर जोर दिया बापू ने,चरखा,तकली चलवाया।

लेकरकिसानसे बुनकर तकका,स्वरोजगार परध्यान दिया।।

कुटिर और उद्योग लघु पर,जोर सदा ये देते ।

पर अगली पीढ़ी एक न मानी,बातों पर ध्यान न देते।।

कर दरकिनार उनकी बातें,अपनी कर दी मनमानी।

छोटे उद्योगें बंद परे, फिरभी पर बात न मानी ।।

फलत: बेरोजगारों की,बढ़ती गयी संख्या भाड़ी ।

हुऐ उपेक्षित ,उद्योग-कुटिर , उद्योग खड़ी की भाडी।।

जो सिर्फ देखता उपर केवल,ध्यान नहीं नीचे देता ।

संदिग्ध संभलना होता उनका,गिरना लगभगतय होता

पडोसी दुश्मन चीन हमारा, नीति यही अपनाई ।

छोटे से ध्यान को बिना हटाये , चीजें भी बड़ी बनाई।।

छोटी सस्ती चीज बेंचकर,दौलत लिया बनाये ।

हम सब उनके ग्राहक बन, दौलतमंद उसे बनाये ।।

मेरी जूती मेरे सर मारा, तब हम अब पछताये ।

हमने ही भस्मासुर बनाया , तब क्या होगा पछताये ।।

याद करो बापू की बातें ,अगर उसे हम माने होते।

अपनी दुर्गती अपने हाथों,होरहे आज , नहीं होते ।।

आगे भी अभी सम्हलना है तो,उनकी राहें अपनाओ।

हम विश्वगुरू थेफिर बन सकते,सोंचो और बतलाओ।।

कुटिर उद्योग लगा कर अपनी, हालत स्वयं सुधारों ।

शत्रु का माल हम नहीं खरीदें, घर बैठे भस्मासुर मारो।।

इस भुख्खर को हम्हीं बढ़ाया,हमही इसको मार सकेंगे।

उनकी चीजें नहीं खरीद, घर बैठे,उनका संहार करेंगे।।

ऑखों में तेरे जाम नजर आया.

ऑखों से छलकते तेरे , जाम नजर आया ।

फड़कते तेरे लब पर, नया पैगाम नजर आया।।

तरसती मेरी ऑखो में नया , जान नजर आया ।

जो पड़े कदम धरती पे तेरे, बहार नजर आया ।।

जाये मेरी नज़रें जिधर , मधुमास नजर आया ।

भ्रमरों का गुॅजन में डुबा , संसार नजर आया ।।

निगाहें जब पड़ी तुझ पर मेरी, मुझे क्या नजर आया।

गगन से उतर आया कोई,माहताब नजर आया ।।

चमक तो ठीक वैसी ही ,नजर जिनपर न टिक पाती़ ।

तपिश बिल्कुल नहीं वैसा , बहुत शीतल नजर आया।।

खुदा मैं शुक्रिया बोलूॅ तुझे , कुछ समझ नहीं पया।

तुमने ही बनाया सब , नहीं कोई समझ भी पाया।।

क्यों मायूस बैठे हो?

न जाने कौन सी पीड़ा, बसाये दिल में बैठे हो ?

उड़ा रंगत क्यों मुखरे का, हुए मायूस बैठे हो ??

दिल की हो गयी चोरी, कहीं क्या खो के आये हो?

दिल तो एक ही होता ,कहीं क्या देकर आये हो ??

बता केवल तूॅंही सकते ,क्या तुम करके आये हो ।

कहाॅ पर क्या किया तुमने,कहाॅ क्या गुल खिलाये हो??

नसीहत तुम न देते हो, नसीहत तुम न लेते हो ।

दिल में जो तेरा आता, बताये बिन ही करते हो ??

मुश्किल है पता करना, दिल में क्या बसाये हो ?

दीवाना सा बना केवल,चक्कर क्यों लगाते हो ??

उल्फत भी बला क्या है, तुम्हें शायद पता भी हो ?

प्रेम तो एक धागा है, न जल्दी तोड़ पाते हो ।।

शुक्रिया बोलता उनको, उसे जिसने बनायी हो ।

जैसा भी बनाई हो , अति सुन्दर बनाई हो ।।

बहुत मजबूत यह धागा ,भले कमजोर दिखता हो।

कठिन पर तोडना इसको ,भले यह जोभी दिखता हो।।

खुदा है शुक्रिया तेरा ,अगर सब तुम बनाते हो ।

करिश्मा जो बहुत करते, पर पावन ही करते हो ।।्

रहना खुश सदा सीखो, खुशियाॅ बाॅटना सीखो ।

खुदा भेजा तुझे देकर,बाॅटा क्यो‌ न करते हो ??

नहीं यह चीज तेरी है, दिया चाहे किसी ने हो ।

मकसद बाॅटने का हे , पूरा क्यों न करते हो ??

आनन्द देती, बचपन की बातें.

तन्हा कहीं चुपचाप कभी, जा बैठ हूॅ जाता।

पुरानी बात बादल बन, घुमड़ मन में तभी छाता।।

ये बादल संग ले मेरे,कभी मन को उड़ा लेता ।

जहाॅ जी चाहता उनका, मुझे भी संग ले जाता।।

पुरानी बात का मंजर, मुझे कुछ कब बता देता।

जिसे देखा न सोंचा था, वही सब कुछ दिखा देता।।

पवन की बेग में मिलकर,कभी अठखेलियां करता।

गगन से झाॅक धरती का,नजारा देखता फिरता।।

धरा का दृश्य मनमोहक,हरी चुनरी नजर आती ।

जमा जल तो जरा उसमें, श्वेत गोटा नजर आती ।।

सज-धज धरा दुल्हन नवेली, सी नजर आती ।

गजब का दृश्य यह प्यारा ,सबों का मन को मोहती।।

पुरानी बात जीवन को, हॅसा देती रुला देती ।

कभी गंभीर बनने को हमें है, विवस कर देती ।।

बहुत आनन्द देती है, बचपन की बहुत बातें।

दुखी भी कम नहीं करती,दुखद बचपनकी कुछ बातें।।

उसे चलचित्र की भाॅती, मस्तिष्क देखता रहता ।

अनुभूतियाॅ उससे उन्हें, मिलती सदा रहता ।।

कुछ बातें हुई ऐसी , जिसे समझा नहीं तब था ।

समझ में बात अब आई, फिर तो हाथ मिलना था।।

तमाशा देखते रहिये , तमाशा ही समझ उससे।

लेना चाहते कुछ सीख तो फिर, लीजिए उससे।।

अज्ञानता का तम अभी इन्सान में.

देखने को देखते,हरलोग आंखें खोल अपनी ।

पर वहीतक खुल सकी,उसकी जहांतक सोंच अपनी।।

दृष्टिकोण अपना सोचने का,होता अलग हरलोग का।

हर चीज रहती एकही,दिखती अलग हर लोग का ।।

‘छः अंधे एक हाथी,’ शायद सुनें होगें कहानी ।

स्पर्श करजो समझ पाया,सबकी अलग होगयी कहानी

अपनी जगह सब ठीक थे,स्पर्श भी सच ही बताया।

अनुमान जो उसने किया,क्या गलत उसने लगाया।।

पर सोंच जिसकीहै जहां तक,वह वहीं तक सोंच पाया।

जाना उसे था और आगे,पर वहां तक जा न पाया ।।

यह हाल सिर्फ उनका नहीं,सबलोग का है हाल यह।

पहुंचा जहां जो है जहां,लगता उन्हें वही थाह वह।।

अनन्त यह ब्रह्माण्ड है,अनन्त सारी चीज इसमें।

हर को समझ कर जान पाना, है नहीं आसान इतने।।

अबतक जो मानव जान पाया,वह अधूरा ज्ञान है।

जो पूर्ण उसको मान ले,वह भटका हुआ इन्सान है।।

अज्ञानता का तम भरा,काफी अभी इन्सान में।

पर दूर करने की तुरत, कूबत नहीं इन्सान में ।।

काफी समय अब भी लगेगा,रहस्य पूरा जानने में।

रहस्य पर का आवरण, उसको हटा कर फेंकने में।।

जो गम्भीरता से सोंचते, आवरण वे ही हटाते।

गूढ़ बातें जानकर, लोगों को भी वे ही बताते।।

आये चले गये,करते हाये.

काम करो कुछ ऐसा ,तेरा नाम अमर हो जाये।

कीर्ति तरी जगमें चमके,जीवन ही सफल हो जाये।।

कितने आये आ चले गये,जीवन भर करते हाये ।

दौलत संग्रह करने में निज,जीवन अनमोल लगाये।।

संग्रह ही करते गये अविरल, चाहे धन जैसे आये।

जीवन ही अर्पित कर डाला, कुछ और नहीं कर पाये।।

जीवन का मकसद बना लिया, दौलत कितनी आजाये।

साधन को साध्य समझ ,जीवन ही दिया डुबोये ।।

जानेका वक्त उन्हें जबआया,दौलत कुछ काम न आये।

किये कूच सब छोड़ यहीं ,लेकर कुछ जा नहीं पाये।।

सबलोग जानता बात यह ,करता है क्यो फिर हाये ?

किया इक्ट्ठात्याग सबों को,तेरा वहभी काम नआये।।

यह रोग पुराना,नया नहीं, पर लोग यही करते आये।

दौलत संचय, तो बहुत किये,पर साथ न ले जा पाये।।

बचा रहा यश सिर्फ उन्हीं का,जो कुछ अद्भुत करपाये।

अपने जीवन का दाव लगा, औरों को भला कर पाये ।।

कर अपना सर्वस्व न्योछावर,परहित जो थे कर पाये।

गांधी, गौतमबुद्ध, लालबहादुर,सरदार पटेल बन पाये।।

कीर्ति उनकीही अमर रहेगी,युग कितने चाहेबीत जाये।

चमक सदा ही आसमान से,कभी नहीं मिट पाये ।।

इन बीरों की गाथाओं का,कर श्रवण लोग सुख पाये।

आजाद,भगत सिंह सा लोगोंका,अमर कीर्ति लहराये।।