तेरा जय हो जाये.

कोरोना से लड़ने वालों , तेरा जय हो जाये ।

कोरोना के निर्माताओं , तेरा क्षय हो जाये ।।

तुम संसार का शत्रु, प्रबल बड़े निकले ।

नीचता में आजतक का ,सर्व-प्रथम निकले।।

पामरता की सारी हद को , तुमने तोड़ दिया ।

संसार के सारे मानव को, मरने को छोड़ दिया।।

ऐ बुद्ध धर्म अनुयायी , ये कैसे कर डाला ।

अगिनत नरमुंडों का माला ,गले अपने डाला ।।

इतनी हत्या कहीं आजतक , नहीं किसी ने करवायी ।

इतिहास सदा तुमपर थूकेगा ,जैसा तूंने करवाया ।।

जबतक यह संसार रहेगा , काला तेरा नाम रहेगा।

अनगिनत पुश्त तुम्हे कोसेगा,नाम तेरा बदनाम करेगा।

ऐ अधम तुम्हेंक्या नहीं पता,तुम पामरता कीहद करदी

सारे निर्देशों की तूंने , कैसे निर्मम हत्या कर दी।।

सारी निरीह जनता की आहें,तुम कैसे झेल सकोगे?

बददुआ की लपटें सब की , कैसे सह पाओगे ??

बददुआ जलाती बड़े-बड़ों को , नहीं किसी को छोड़ा।

छूट गये सिंहासन नृप के,सेवक बना कर छोड़ा ।।

दुआ और बददुआ असर, सब पर ही करता है ।

सब कुछ रहते भी मौके पर, काम नही करता है ।।

अपने जीवन में गौर करो , नजर तुम्हे आयेगा ।

ईर्द-गीर्द की घटनाओं से , समझ तुमको आयेगा।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s