समय सब कुछ कराता है.

न कोई मित्र होता है , न कोई शत्रु होता है ।

समय के हाथ में सारे ,वही सबकुछ कराता है।।

स्नेह जबतक भरा होता, दीपक प्रज्वलित रहता ।

पर जब खत्म हो जाता,दीपक स्वयं बुझ जाता।।

जलते स्नेह ही,पर दीप का जलना इसे कहते ।

दीप तो बिन स्नेह के, एक पल नहीं जलते ।।

करता कौन है जग में, किसी का नाम पर होता ।

प्रचलन यह पुराना है ,। यही तो सर्वदा होता ।।

जगत जिसने जना , उसको कहां देखा किसीने ?

अटकल बाजियों का खेल , खेला है सबोंने ।।

वर्चस्व रखने का सदा , झगड़ा यहां है ।

निज फायदे का फिक्र ही , रहता उन्हें है ।।

सब लोभ ,लालच मोह में, मानव फंसा अब ।

निस्वार्थ और निष्काम , जानें गये कहां कब ।।

यही अवगुण है हावी, जो मनुज को खा रहा है ।

सद्गगुण को दबा उनके , उन्हीं पर छा रहा है ।।

दिल में हो रहा है, अवगुणों की वृद्धि नित-दिन।

अब हो रहा है ह्रास , मानवता का प्रति-दिन ।।

न जाने यह कहां तक जायेगा , गिरता हुआ अब ?

गिरेगा और ज्यादा , या सम्हल ही जायेगा अब ??

लटकता ही रहेगा क्या अधर में, भविष्य इसका ?

या निकलेगा चमक कर और ज्यादा,भाग्य इसका ??

जो भी है समय के हाथ में, सारा पड़ा है ।

यही बतला सकेगा , और क्या बाकी पड़ा है।।

समय सबका बदलता ,बस यही तो सत्य अटल है।

सुधा भी तो समय के साथ,बन सकता गरल है ??

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s