विश्व-हिन्दी दिवस.

हमारी हिन्दी का विश्व में, बढ़ रहा सम्मान हो ।

जब विश्वब्यापी हिंदी का, मिल रहा स्थान हो ।।

जब विश्व के हर कोने में, हिंदी का मान हो ।

फिर क्यो न हिंदी भाषियों को,गर्व का भान हो।।

फैलता जब जा रहा , हिंदी का कीर्तिमान हो ।

देता दुआ है मन मेरा , बढ़ता ही रहे शान हो ।।

हिंदी में बोल-चाल में ,गर्व का एहसास हो ।

इसकी सुगम मधुरतासे, श्रोताओं को मिठास हो।।

कर्ण-प्रिय सब का बने, ऐसा मधुर प्रवाह हो ।

स्वीकार सब का दिल करे, इस हिन्दी का मिठास हो।।

हिंदी बढ़े आगे बढ़े, सूरज सा किर्तिमान हो ।

इसी के आलोक में,चमकता रहे जहान हो ।।

प्रसार में जो लोग हैं , जयकार हो , जयकार हो ।

हैं प्रशंशा के पात्र ये , उनको भी नमस्कार हो ।।

मांगता हूं मैं दुआ , यह विश्व को रौशन करे ।

आभा निकल इसके सदा ,लोक आलोकित करे।।

सदा ही चमकता रहे अब , किर्तिमान तेरा विश्व में।

ज़ुबां से निकलता रहे , तूं हिन्दी पूरे विश्व में ।।

************************************

3 विचार “विश्व-हिन्दी दिवस.&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s