हम सफर

मिले गर हमसफर प्यारा , सफर आसान हो जाता ।

गमों की भी मिले दरिया , हँस कर पार हो जता ।।

रहे गर साथ मे हमदम , डगर काँटे भरा भी हो ।

काँटे ही नहीं केवल , पथें काँकड़ भरे भी हों ।।

हमारे कदम ठिठकेगें नहीं , बाधाओं के आगे ।

मुमकिन है कि हमको देख कर , बाधायें खुद भागे ।।

इरादा हो अटल- प्रबल , आनन पर झलक जाता ।

बाधायें देख कर इनको , किनारा स्वयं ले लेता ।।

किनारा ही नहीं केवल , मदद करने चले आते ।

मदद स्वीकार गर कर लें , बड़े ही धन्य हो जाते।।

यही दस्तूर दुनियाँ का , जो काफी पुराना है ।

जो सफल हो जाते , उन्हें सब धन्य माना है ।।

भरा सामर्थ्य हो जिनमें , लोग सब पूजते उनको ।

जो वे कहा करते , लोग सब मानते उसको ।।

असक जो लोग कुछ कहते , कहाँ कब मानते उनको ।

बात गंभीर भी करते , न सुनना चाहते उनको ।।

उनकी बात को आराम से ,प्रलाप कह देते ।

न देते ध्यान ही उसपर , उसे बकवास कह देते।।

चाहे लाख ज्ञानों से भरी हो , बात सब उनकी ।

उन्हें तरजीह क्यों देगें , सुनेंगे ही नहीं उनकी ।।

लेते लाख बाधा झेल , संग गर हमसफर होता।

गमों की भी मिले दरिया ,तो हँस कर पार हो जाता ।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s