बापू

बापू, एक बार तुझे , धरती पर आना होगा ।

समस्या बढ़ रही थोडी , उसे सुधारना होगा ।।

ईशा की ही जरूरत है , बुद्ध की भी जरूरत है ।

भरे दोनो का गुण तुममें, तैरी तो श्ख्त जरूरत है।।

तुम तो आये थै शायद , यही सब काम करने को ।

त्रसित थे लोग जो मही पर , उन्हीं को त्राण देनें को।।

बहुत कुछ तुम किये पूरा , बाकी था बचा थोड़ा ।

एक सिर फिरा आ कर , नहीं होने दिया पूरा ।।

दिया कर छेद छाती को , तुम्हें पिस्टल की गोली से ।

ईशा को छेद डाला था , दिवार मे ठोक काँटी से ।।

अधूरा छोड़ अपना काम , जन्नत को पड़ा जाना ।

जन्नत को जरूरत थी ,इनसे कुछ काम निपटाना।।

जरूरत आ पड़ी फिर आप की ,बिना तेरा नहीं सम्भव।

बचा जो काम था करना , तुम्हीं से सिर्फ है सम्भव ।।

कृपया एक बार आकर , आप दिक्दर्शन करा दें फिर।

बैठी है जगत बारूद पर , उससे बचा लें फिर ।।

धधकती जा रही थी , विश्व-युद्ध की अग्नि गुस्से सा ।

अहिंसा -मार्ग दिखला कर ,दिया कर शमन गुस्से का ।।

शान्ति का मसीहा बन , किया उपकार मानव को ।

“अहिंसा परमों धर्म ” का दिया, एक मंत्र मानव को।।

तुमने कर दिखाया जो , मानव कर नहीं सकता ।

थे मानव से बहुत उपर , ‘सिर्फ’ मानव हो ही नहीं सकता।।

तुझे जो दिल से सोंचा है , तुझे भगवान माना है ।

गौतमबुद्ध, ईशा मसीह के , समकक्ष माना है ।।

तुमने जो दिखाया रास्ता , सन्मार्ग का है पथ ।

सत्य , अहिंसा , ईमानदारी , से भरा यह पथ ।।

विश्व भी अब लग गया, समझने मार्ग क्या इनका।

विश्व मे शान्ति देगा यही , जो मार्ग है इनका ।।

शान्ति के पुजारी तुम ,तुझे जग नमन है करता ।

समझता जा रहा जो करीब से ,सब अमल है करता ।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s