हरक्षण जीवन निकला जाता

हर पल ,हर क्षण ,जीवन का , निकला भागा है जाता।

सरपट अंतिम घड़ियों की निकट ,स्वयं पहुंचता है जाता।।

गण्तब्य कहूँ या अंत कहूँ , क्या कहूँ समझ नहीं पाता ।

नाटक का परदा का गिरना , बस दृश्य बदलना कहलाता।।

बस कलाकार है रह जाता , पर रोल बदलता है जाता ।

बदल भेष-भूषा अपना ,कुछ अन्य विधा है दिखलाता ।।

कला मे माहिर जो होते , स्वांग सही वह रच पाते ।

जीवन्त स्वांग जो रच देते , वही श्रेष्ठ हैं कहलाते ।।

पर वक्त निकलता है जाता , पलभर भी कहीं नहीं रुकता।

अपनी गति से , अपने पथ पर , अविरल बढ़ता ही जाता ।।

समय बदलता है जाता , सब दृश्य बदलते हैं जाते ।

बदल जाते हैं कलाकार , पर कला यहीं हैं रह जाते ।।

जब परदा है गिर जाता , खेल खत्म है हो जाता ।

कला की चर्चा कलाकार की ,लोगों मे है रह जाता।।

शुरू होता फिर खेल नया , कुछ नये खेलाडी आ जाते ।

कुछ तो आ कर नयी विधायें , अपना कुछ दिखला देते।।

क्रम सदा यही चलता जाता , पर खेला नहीं रुका करता।

कुछ नये खेलाड़ी आ जाते , कुछ छोड़ यहाँ से चल देता ।।

हरेक किस्म के यहाँ खेलाड़ी , विभिन्न खेल खेला करते ।

जिनकी दिलचस्पी होती जिसमेँ , वही खेल खेला करते।।

कुछ दर्शक बन कर रह जाते , देख देख कर लुत्फ उठाते।

दृष्टिकोण अपनी होती , तौल उसी सै कामेन्ट सुनाते ।।

देख-सुन कर ,कुछ करवा कर , यूँ ही समय गुजर जाता।

चुपके -चुपके क्षण अंतिम आता ,जो गुजरे ,गुजरा रह जाता।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s