बचपन की यादों में.

ऐ बचपन यादों में मेरी , बार बार क्यो आते हो ?

मृदुल भाव में था खोया मैं ,क्यो झकझोर जगाते हो??

मुझे त्याग तुम चले गये कब, निष्ठुरता की हद कर के ।

बेरहमी की सीमा सारी , तोड़ी ही नहीं , मसल कर के।।

त्याग चले गये बिना बताए ,ऐसी क्या मुझसे चूक हुई?

नहीं लौट कर है आना ,अटल प्रतिज्ञ जाने क्यों हुई ।।

बहुत दिनों तक साथ रहे , मिलकर आपस में दोनों।

अगाध प्रेम था हम दोनों में , सदा निभाया दोनों ।।

क्या हुआ अचानक ,पता न मुझको , हमको छोड़ चले गये।

भूल गया सारा अबतक का ,परित्याग मुझे क्यों कर गये ।।

निष्ठुर इतना तुम निकलोगे, सोचातक कभी नहीं था ।

बदल जाओगे इतनी जल्दी , शक तक तनिक नहीं था।।

भनक तक नहीं मिली थी हमको , त्याग मुझे चल दोगे ।

मुझे बिलखता छोड़ यहीं , चुपचाप निकल तुम दोगे ।।

करो याद पहले की बातें , सब कुछ भुला गये क्या?

क्या-क्या था अभियान हमारा , कुछ भी याद नहीं क्या??

कंधे पर बोझ दिया कितना , क्या झेल अकेला पाऊं गा।

क्या जिम्मेदारी अपनी सारी , उठा कर ढो ले पाऊं गा??

जिम्मेदारी का बोझ नित्य , बढ़ता ही जाता है ।

उठा उसे क्या पाऊंगा , सोंच ये मन में आता है ।।

फिरभी हिम्मत क्यों हारूं,समझ नहीं मन पाता है ।

पर चले गये क्यो निर्मोही , गम तेरा बहुत सताता है।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s