पर आज तो होता यही.

‘शीशे का जिन्हें घर हो ,पत्थर फेंकते नहीं ‘।
जो होते भ्रष्ट खुद ,भ्रष्टाचार को वे रोकते नहीं।।

भ्रष्टाचारियों की एक , बड़ी लाँबी हुआ करती ।
अन्दर एक सब होते ,बाहर से भले दिखते नहीं ।।

ये बहुरूपिये होते , अपने रुप में रहते नहीं ।
कब किस रूप में होगें ,खुद कह सकते नहीं ।।

पहने साफ सुथरे वस्त्र में ,वे दिख जाते कहीं ।
भीतर गन्दगी कितनी भरी ,ये तो दिख पाते नहीं।।

मिले मौका अगर करीब से , झाँकने को कहीं ।
आयेगी गन्दगी सारी नजर , जा कर वहीं ।।

घिनौना रूप उनका देख , जल्द यकीं होती नहीं।
छबि उनकी बनी थी जो , जल्द हटती भी नहीं।।

लगती चोट भी दिल को , सहन होता नहीं ।
श्रद्धा पर घृणा का लेप , जल्द चढ़ता नहीं ।।

दुआ देती सदा आई जिन्हें,जल्दही बददुआ आती नहीं।
होता दर्द उतना , दर्द-ए-दिल कहा जाता नहीं ।

किया भी जाये क्या , अधिकांश तो करते यही ।
चाहे रोकना कोई , पर रोक कोई पाता नहीं ।।

आज है हाल दुनियाँ की , सभी करते यही ।
सुनाना चाहते सब ही , कोई सुनता नहीं।।

बदल गये साथ दुनियाँ के सभी ,कौन बदला नहीं?
जल्द सच्चाई का पथ पर , कोई मिलता नहीं ।।

पथिक सच्चाई का जग में ,जल्द मिलता तो नहीं ।
मग काँटे भरे होते , आसान तो होते ही नहीं ।।अ

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s