एक राज्य भ्रमण कर आयें.

आयें थोडा़ हम अपना, एक राज्य भ्रमण कर आयें।

भारत का छोटा राज्य एक, दर्शन इसका करवायें ।।

असम राज्य का टुकड़ा एक, मेघालय राज्य बना है।

आच्छादित मेघों से रहता , मेघालय कहलाया ।

गुण के ही अनुरूप राज्य का , सुन्दर नाम धराया।।

सुन्दरता की बात न पूछें, स्वर्ग इसे कह सकते ।

लिये गोद में इसे हिमालय, मन देख इसे ना थकते।।

नयनाभिराम हर ओर दृश्य , मनमोहक है प्यारा ।

ऊँची- नीची घाटियाँ, लगते कितने न्यारा ।।

राजधानी शिलाँग बनी , शहर लघु पर सुन्दर ।

स्वच्छता का मानो प्रतीक, न कहीं गन्दा दिखे यहां पर।।

हर मौसम में बदरी आ , करते रहते अठखेली ।

खेल रहे हों लुकाछिपी, मानों बच्चों की टोली।।

सड़कें लगती, सागर मेंं , उठती हो जैसे भाटा ।

गाडी आती दिखती जैसे, नैया तैर रहीं हो छोटा।।

छोटे -छोटे घर के उपर , छत चदरे की होती ।

हरे- लाल रंगो से रंगी , अति सुन्दर है दिखती ।।

लोग लुगाई सभी यहाँ के , सौम्य नजर हैं आते ।

मूल निवासी लोग यहाँं के, खासी हैं कहलाते।।

छोटी बेटी, परिवार की , मालकीन होती है ।

उस लाडो की आज्ञा घर में , शिरोधार्य होती है।।

यह शहर बड़ा तो नहीं बहुत, पर है यह बहुत पुराना।

लगा यहाँं रहता है हरदम , पर्यटकों का आना-जाना।।