आसान नहीं दिल बाँधना.

दिल भी अजीब चीज चंचल,जानें न कब क्या चाहता?
मिलना नहीं आसान हो जो, चीजें भी ऐसी माँगता ।।

मजबूर होते दिल के हाथों, आदमी सब लोग हैं ।
मस्तिष्क इसे काबू करे , मिलते बहुत कम लोग हैं।।

दिल को अपनी साधना से,जो मनुज कोई साध लेता।
उनको सफलता, हर कदम पर जिन्दगी में चूम लेता ।।

आसाँ नहीं होता कभी पर,दिल को अपना साधना।
जो दृढ़-प्रतिज्ञ हो बाँध लेते ,जो चाहते हों बाँधना।।

जिनका इरादा हो अटल, काम ऐसा कर दिखाते ।
जिसको असंभव लोग कहते,संभव उसेभी कर दिखाते।।

युग-पुरुष होते वही,दिल पर जिन्हे अधिकार होता ।
मस्तिष्क जो उनका चाहता,दिल को देना साथ पड़ता।।

असंभव को अपनी जिन्दगी में,वे कभी लाते नहीं ।
पौरूष-बलो का सामना , कर कभी पाता नहीं।।

सफलतायें आ खुद सामनें,इनके कदम को चूमती ।
इनके गले का हार बन ,किस्मत पे अपनी झूमती।।

धन्य है वह युग-पुरुष,कल्याण युग को वे कराते।
जो आपदायें सामने हो ,देखते इन्हे् भाग जाते।।

शेर की दहाड़ सुन जब, वन्य जीवन मौन होते ।
भाग अपनी खोह में ,जीवन को अपना वे बजाते।।

एक युग पुरुष आता कभी,खल गण तभी हैं मौन होते।
सब भागते भयभीत हो ,सज्जन तभी भयमुक्त होते ।।

परंपरा यह सर्वदा से , चलते सदा ही आ रहे ।
रक्षार्थ सज्जन के लिये ,हो अवतरित कोई आ रहे ।।

कलम

ऐ कलम शक्ति तुम्हारी ,सबलोग जग में जानते ।
लगती तो छोटी देखने में,पर तेरी महत्ता जानते।।

ज्ञान जो अर्जित हुआ,अमरत्व देना काम तेरा ।
युग युगो तक लोग जानें,यह बताना काम तेरा।।

मन की बातों को कलम,उतार देती कागजों पर।
सच्चाई का प्रमाण बन,लिपियों में रखती बाँध कर।।

पहचान बन कर संस्कृति की ,तुम जगत में आई हो।
ख्याति तुम संसार में , सर्वदा से पायी हो ।।

ज्ञान ग्रन्थों का तुम्हीं से ,लोग पाते आ रहे हैं ।
तेरी कृपा बिन लोग क्या,इस निधि को पा रहे हैं।।

तेरी कृपा से लोग,पाते आ रहे सब ज्ञान हैं ।
तेरी कृपा का हो धनी , पा रहे सम्मान हैं।।

संसार छूता जा रहा ,तेरी कृपा से आसमाँँ ।
आसमा्ँ ही क्या सुनें,ब्रह्मांड तक की दास्ताँ ।।

ज्ञान का प्रसार , विन तेरे नहीं आसान था।
जब तूँ न थे,लोग सब ,हर गूढ़से अन्जान था।।

ज्ञान के प्रसार में , तेरी अहम है भूमिका ।
जिसने किया है खोज दे दें,दाद उनके ज्ञान का।।

जिसने बनाया हो कलम ,कितना किया एहसान है।
करके सुगम वह रास्ता ,को किया आसान है ।।

मोर पंखों की कलम से , लोग अब लिखते नही।
प्रकार अनेकों लेखनी की ,मिलती जो पहले थी नहीं।।

उपलब्धता आसान हो गये, लेखनी का आज है ।
जा रही बढती बराबर, उपयोगिता भी आज है ।।

एक राज्य भ्रमण कर आयें.

आयें थोडा़ हम अपना, एक राज्य भ्रमण कर आयें।

भारत का छोटा राज्य एक, दर्शन इसका करवायें ।।

असम राज्य का टुकड़ा एक, मेघालय राज्य बना है।

आच्छादित मेघों से रहता , मेघालय कहलाया ।

गुण के ही अनुरूप राज्य का , सुन्दर नाम धराया।।

सुन्दरता की बात न पूछें, स्वर्ग इसे कह सकते ।

लिये गोद में इसे हिमालय, मन देख इसे ना थकते।।

नयनाभिराम हर ओर दृश्य , मनमोहक है प्यारा ।

ऊँची- नीची घाटियाँ, लगते कितने न्यारा ।।

राजधानी शिलाँग बनी , शहर लघु पर सुन्दर ।

स्वच्छता का मानो प्रतीक, न कहीं गन्दा दिखे यहां पर।।

हर मौसम में बदरी आ , करते रहते अठखेली ।

खेल रहे हों लुकाछिपी, मानों बच्चों की टोली।।

सड़कें लगती, सागर मेंं , उठती हो जैसे भाटा ।

गाडी आती दिखती जैसे, नैया तैर रहीं हो छोटा।।

छोटे -छोटे घर के उपर , छत चदरे की होती ।

हरे- लाल रंगो से रंगी , अति सुन्दर है दिखती ।।

लोग लुगाई सभी यहाँ के , सौम्य नजर हैं आते ।

मूल निवासी लोग यहाँं के, खासी हैं कहलाते।।

छोटी बेटी, परिवार की , मालकीन होती है ।

उस लाडो की आज्ञा घर में , शिरोधार्य होती है।।

यह शहर बड़ा तो नहीं बहुत, पर है यह बहुत पुराना।

लगा यहाँं रहता है हरदम , पर्यटकों का आना-जाना।।

ऐ पिंजरे का पक्षी.

ऐ पिंजरे का प्यारा पक्षी ,मत सोंच अकेला कैद न तुम हो।

जिस मानव ने तुझे कैद किया, उससे तो काफी बेहतर हो।।

पिजरे में तो तुम दोनों ही, चाहे पिंजरा जैसा भी हो ।

हो दोनो तो एक जैसा ही, छोट बड़ा का भेद भले हो ।।

उड़ने वाले पक्षी को तो, धोखा देकर कैद किये हो ।

नहीं बिगाड़ा था कुछ तेरा , जबरन उसको बंद किये हो।।

छीनी है उनकी आजादी, तुमने कितना जुर्म किये हो ।

रे मूढ़ नही क्यों तुम सोंचा , यह कैसा कूकर्म किये हो।।

महज एक कैदी हो तुम भी , पर नहीं दर्द को समझ रहे हो।

सब गयी कहाँ संवेदना , एक पक्षी से भी गिरे हुए हो ।।

मोह ,माया ,ममता का जाल, में ऐसा तूँ फँसे हुए हो ।

कैद न जाने कब के हो गये ,नासमझी में पडे हुए हो ।।

खुद को ज्ञानी भी कहते हो ,अज्ञानी सा कर्म किये हो।

हो फँसे हुए भवजाल में , नहीं इसे पर देख रहे हो ।।

अंध मुरख सच ही है मानव , करते क्यों इन्कार इसे हो।

एक कैदी दूसरे कैदी पर, ढाते कितने जुर्म रहे हो ।।

क्यों विवेक ले कर रखा है , लेते इससे काम नहीं हो ।

कितने पावन आये थे बन, क्यों उसे अपावन किये हुएहो।।

माना पिंजरा बडा है तेरा ,पर उड़ ही पाते कितना हो?

उड़ने की क्षमता है तुममें , पर अपनों में सिमट गयेहो ।।

आ जा पिंजरा तोड़ निकल जा , क्यों क्षमता को भूल रहेहो?

मानव हो जीवों में उत्तम , क्यों पिंजरे में सिमट रहे हो ??

कल्याण करो हर जीवों का, मानव ही उसमें ना क्यो हो?

अवगत तो करवा दो उनको, जितनी उनमें शक्ति निहित हो।।

कहाँ गयी तूँ गौरैया.

कहाँँ गयी तूँ गौरैया , कहाँँ गयी ओ गौरैया ।

नजर न आती चूँ चूँ करती,छिपी कहाँँ तूँ गौरैया।।

फुदक फुदक कर आँगन में,आज न दोड़ लगाती है।

घर के वातायन के उपर, बैठी नजर न आती है ।।

कितना प्यार किया करती,जिधर तिधर फुदकी करती।

घुली मिली परिवार का,अभिन्न अंग बनकर रहती ।।

कभी बच्चों के संग जा , रैग रैंग दाने चुँगती ।

कभी बाल कंधों पर उनके, बैठ बैठ खेला करती ।।

करती चूँ चूँ अपने झुंडों में,आज नही क्यों है दिखती?

चली कहाँँ गई हमें छोड़ , क्यों नहीं फुदकती है रहती??

क्या परेशान किया कोई, बिदक क्यों भाग गई हमसे?

कुछ खास बिगाडा है हमने ,क्या इसीलिए रूठी हमसे??

तुझे लुप्त होते जाना , है काफी चिंता की बात ।

यह साधारण बात नहीं , कारण करना होगा ज्ञात ।।

जरा ध्यान दें बुद्धि जीवी , थोड़ा करें मनन इसको ।

लुप्त न होवे इसे बचा लो , संरक्षण दे दो इसको ।।

ऐ गौरैया, छोटी चिडियाँँ , हो तचम प्यारी हमसब के।

साथ निभाती आई हरदम ,न जानें तुम कब हम से ।।

बनता है कर्तव्य हमारा, मदद तुम्हें करने का ।

तेरी आफत ढ़ूँढ़ -ढूँढ , तुम्हें संरक्षण देने का ।।

नाच रही दुनियाँ सारी

समयचक्र में नाच रही है, दुनियाँ की चीजें सारी ।

मैं ,मेरा का वहम पाल कर , रखा है सारा संसारी।।

तेरा,मेरा के इर्दगिर्द में ,भटक रही जगती सारी ।

चीजें तो सारी अनित्य फिर , क्यों करना मारा -मारी।।

विवेकशील सारे जीवों में , सबसे ज्यादा मेधा तेरी ।

कर्म करोगे सर्वोत्तम, जिम्मेदारी बनती तेरी ।।

पर क्यों दलदल में डूब रहे ,क्या मारी गई मति तेरी?

क्यों विवेक से काम न लेते , कैसी ये कुमति घेरी ।।

समय तो कभी नहीं रूकता, द्रुतगति से चलता जाता।

जो कद्र नहीं करता इसका,जीवन भर वह पछताता ।।

करते जो सम्मान समय का, पाते भी उनसे सम्मान।

साधारण इन्सान से , एकदिन बनता बहुत महान ।।

जो अहम त्याग कर्तब्यनिष्ठ हो ,उचित देता सबको सम्मान।

वह मानव नहीं, महामानव, बन जाता है देव समान।।

देवतुल्य उस मानव को, समय दिलाता है सम्मान ।

साधारण मानव कर्मों से, गढ़ लेता अपनी पहचान।।

गौतम थे क्या ,गाँधी क्या थे, थे अशोक क्या, सब इन्सान।

किया कर्म अपनें जीवन में, कर्मों से ही बने महान।।

कर्मशील बन, सत्कर्मों से, जीवन तुम भी करो महान।

समय निकल गये बहुत ब्यर्थ, अब तो जागो इन्सान।।

ऐ जादूगर

ऐ जादूगर जादू तुम्हारा, छाया हुआ हर ओर है।
तेरी ही माया का करिश्मा,दिख रहा हर ओर है।।

जो देखती है आँख मेरी ,शायद नजर का फेर है।
नजारें दिखाई दे रही जो, रहती न ज्यादा देर है ।।

तुम बनाते तुम मिटाते , करते सदा यह खेल तूँ ।
कई बार तो कोई अजूबा, भी दिखाते खेल तूँ ।।

हर बात तेरी मन में मेरा,क्यों न जाने कौधती है।
दृश्य अजूबा कुछ दिखा ,मन को मेरा मोहती है।।

जो चाहते हो तुम दिखाना,बस वही दिखता मुझे है।
तुम बताते जो मुझे हो ,बस वही आता मुझे है ।।

जो तुम बताते मानता मन, पूर्णतः विश्वास से ।
पूरा असर अब मेरे दिल पर ,कर लिया अधिकारसे।।

वह भी तो बस अपनी खुशी से,दे दिया अधिकार है।
क्या जादू तेरा जादूगर , होता यही क्या प्यार है ।।

तूँने बनाई चीज सारी ,क्या हाथ की ही सफाई है?
जो बनाते झूठ सारी ,नजरों ने धोखा खाई है ।।

नित्य तो होता नहीं कुछ ,अनित्य ही हर चीज है ।
जो आज है मिट जायेगी कल,ऐसी ही सारी चीज है।।

तुम जो दिखाते हो हमें ,नजरें क्या धोखा खा रही ?
ये चीजैं सारी अनित्य है, नित्य नजर पर आ रही ।।

हम सब ठगे से हैं यहां ,सब झूठ है बेकार है ।
जो देखते सब ही ठगी है ,असत्य यह संसार है।।

ऐ जादूगर जब छल रहे ,तो क्यों बनाया था हमें।
क्या स्नेह से हमको बना,छलना पडा अब क्यों हमे।।

कोई शत्रुता तो थी न हम से,जिसका दिये परिणाम हो।
हमनें बिगाडा क्या तुम्हारा, लगाये क्या इल्जाम हो ।।