शान्ति के हम प्रवल पुजारी.

रहा शान्ति के प्रवल पुजारी, भारत मेरा देश ।

देते आये हम्हीं सदा से , शान्ति का उपदेश ।।

जीवन जीनें का सही तरीका ,लोगों को समझाया ।

कुछ देश पड़ोसी के भी मन को,प्रभावित कर पाया।।

‘जियो और जीने दो का ‘ , मंत्र सदा बतलाया ।

‘घृणा पाप का मूल है ‘, लोगों को समझाया ।।

बैर नहीं करना सिखलाया , शान्ति से जीना बतलाया।

काफी विकसित थे ज्ञान क्षेत्र मेंं ,अन्य देश को भी दिखलाया।।

शक्ति सारी निहित थी हममे, सभी ज्ञान में थे प्रवीण।

गूढ़ लोग को थे समझाते , युद्ध न कुछ देता निदान ।।

शक्तिशाली की बात ,लोग को प्रभावित करती है ।

दुर्बल चाहे लाख ज्ञान दे, असर न कर पाती है ।।

‘भय बिन प्रीत नहीं होती ,’ लगता अकाट्य कथन है ।

सज्जन की बात अलग कर दें ,दुर्जन पर सत्य कथन है।।

अपनी अर्जित शक्ति की भी , प्रदर्शन करना पडता ।

‘नष्ट तुझे भी कर सकता ‘ का, भय भी दिखलाना पडता है।।

दुष्टों की उसकी भाषा में ही , समझाना पड़ता है ।

अगर जरूरत पड़ी छड़ी को , चमकाना पड़ता है।।

यह बात नहीं है कोई नयी , है तो यह बहुत पुरानी ।

करते आये लोग युगों से , बन कर रह गयी कहानी।।

हर बातों में झगड़ा डालो ,कुछ हासिल हो जायेगा ।

नहीं चाहते लोग झगड़ना , कुछ न कुछ मिल जायेगा।।

अगर अकड़ कर हम भी हो गये , लड़ने को तैयार ।

भाग खड़ा हो जायेगा फिर , अपना पैर कबाड़ ।।

प्रायः पाक यही काम तो , अक्सर करता है जाता ।

अगर अकड़ कर देते टक्कर, भाग खडा वह हो जाता।।

शान्ति के हम प्रवल पुजारी.&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s