तुम कहाँ से आई हो?

जन्नत से आई हो उतर,या कहीं से आई हो ?
ऐ सनम इतना बता दो,तुम कहाँ से आई हो??

नाज,नखरें अदायें-कातिल, – जानें कहाँसे पाई हो?
ऐ हुस्न-परी,यह तो बता दो,उडा़ कहाँ से लाई हो??

कैसा कहूँ,तुम सा न कोई , तुम अनोखी चीज हो।
बेताब दिल उलझनमे है,तुम सच हो याकोई ख्वाब हो?

धोखा नहीं तो खा रही, टिकती न नजरें सामने ।
तुम हो कोड़ी कल्पना ,या तूँ दिवस का ख्वाब हो ??

दिल बडा़ उलझन में मेरा , मेरी समझ से दूर हो ।
सुलझा सकूँ शायद नहीं , कि तुम कहाँ से आयी हो।।

चैन से रह पाऊँगा , दे गर बता तूँ कौन हो।
सुकून तो मिल जायेगा, क्यों खड़ी तूँ मौन हो ??

धीरज भी टूटा जा रहा, बेताब दिल बेचैन है ।
देर कर मत चाहिए ज्यादा, दे बता तुम कौन हो ??..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s