जानें याद क्यों आती

जो बातें बीत गयी कब की,न जाने याद क्यों आती ?
गमों को भूल जो गये थे ,वे नस्तर क्यों चुभो जाती??

क्या थी दुश्मनी तेरी, मेरे दिल की सुकूनों से ।
दुखाते गर नहीं उनको,तो तेरी क्या बिगड जाती ??

कभी मैं चाहता हूँ जानना, मेरी क्या हुई गलती ?
समझ में कुछ नहीं आती, आखिर क्या हुई गलती।।

कुरेदे क्यों चले जाते, परत उपर जो पर जाती ?
दुखे रग को मसल देते,तो पीडा़ असह्य हो जाती ।।

बढा़ देते उसे हद तक, हदें भी पार कर जाती ।
सहन होगा भला कैसे ,समझ बिलकुल नहीं आती।।

किसे यह दर्द बतलाऊँ ,सुनेगा कोन ये पीडा़ ।
फुर्सत है किसे इतनी ,याद यह बात आ जाती।।

झिझकवस मैं नहीं कहता, उन्हें रोकूँ भला कैसे।
न कोई रास्ता दिखता ,गजब हालात हो जाती ।।

दबाये चाहता रखना ,बहुत मुश्किल दबानें मे.।
भय बिष्फोट करनें का , सताती ही सदा जाती ।।

जो बातें बीत गयी कब की,न जाने याद क्यों आती।
गमों को भूल जो गये थे,वो नस्तर क्यो चुभो जाती??

जानें याद क्यों आती&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s