मुँह फेर कर तो नहीं जाइये.

हमसे मुँह फेरकर तो नहीं जाइये,खता गरहुई,क्षमा कीजिये।
हुई क्या खता,ये पता ही नहीं, हो सकेतो,ईशारा ही कर दीजिये।।

तेरी सारी अदायें है प्यारी मुझे,वाकिफ नहीं हो तो सुन
लीजिए।
मरने मिटनें की खातिर हूँ तत्तपर सदा,नहीं हो यकीं आजमा लीजिए।।

दिल हवाले तो पहले ही कर ही दिया,जान भीजो है
वो है अमानत तेरी।
माँगकर देखिये गर जरूरत पड़े,पल लगेगी न देरी यकीं कीजिए।।

सिवा इसके आगे न है कुछ मुझे,बची ही नहीं देने के
लिये।
बची रह गयी हो अगर भूल से कुछ,अपनी ही उसको समझ लीजिए।।

माँफ गर कर दिया,मेरी हर भूल को,हाजिर हूँ मैं शुक्रिया के लिये।
अदा कररहा फिर तुझे शुक्रिया, विहंस एक मुस्कान भर दीजिए।

तेरी मुस्कान जीवन का संबल मेरा,आसां न इसको समझ लीजिए।
साथ जायेगी मेरी ये अंतिम घडी तक,यहीं अलविदा कह दीजिए।।

हमसे मुँह फेर कर तो नही जाईए,……..

मुक्तक.

एक ही परिवेश मेंं ,सब एक से होते नहीं ।

माँ-बाप की संतान सारी ,एक सी होती नहीं।।

एक ही शिक्षक पढाते,वर्ग में सब लोग को ।

एक रेकॉर्ड तोड़ते,एक उत्तीर्ण तक होते नहीं।।

    (2)

संसार के इन्सान सारे, मनुज की संतान हैं।

उसने बनाया तो नहीं, हिन्दू-मुसलमान है ।।

जिसने मनुज को तोड़ डाला,मानव नहीं शैतान है।

इन्सान तो होने से रहा,हिंसक जानवर समान है।।

       (3)

तोड़ा ही नही मानव को मानव, चूर चूर कर दिया।

मिलनें न पाये एक साथ,बिषाक्त ऐसा कर दिया ।।

भरता रहा ऐसा जहर, फिर कभी मिलनें न पाये।

प्रेम की मूरत को खुद ही,़़सत्यानाश कर दिया ।।

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^&

दिल के दर्द को मत कहिये.

दर्द-ए-दिल होता है, होने दीजिए, मत रोकिये।
झेलिये खुद ही उसे पर,भूलकर मत बोलिये ।।

कराहता है दिल कराहे , उनको अकेले छोड़िए।
बोलकर कर के भूल से भी,गैरों को मत बतलाइये।।

बड़ी बेदर्द है दुनियाँ, खुश हो जायेगी तेरी ब्यथा पर।
करेगें माखौल तुम पर,बेहतर हो,चुपचाप ही रहिये।।

दें संबेदना आँसू बहाकर, पर घडि़याली आँसू ही।
देखते जाइए सब कुछ नजरसे,पर चुपही रहा करिये।।

बोलिए मत बहुत यूँ ही,जरूरत से कभी ज्यादा।
ब्यर्थ बकवास करने से तो बेहतर,मौन ही रहिये।।

अधिक भी बोलना अच्छी नहीं, सेहत के लिये ।
बेवजह बात कोई करने से,बेहतर हो चुप ही रहिये।।

चुपचाप रहना भी , तपस्या एक बड़ी होती ।
होगा फायदा सब को ,समझ एक साधना करिए।।

किसी से याचना करना,कभी अच्छी नहीं होती ।
जल्दी माँगने का किसी से ,प्रयास मत करिए ।।

ये अजीब दुनियाँ है, अजीब हैं सब लोग सारे ।
समझ पाना नहीं आसान इतना,समझा किया करिये।।

महज एक कर्मशाला है, मानव के लिये दुनियाँ ।
नजर हरदम किसी का है, इसे भी मानकर चलिये।।

सी० सी० कैमरा से बडा़, प्रकृति का कैमरा होता।
रखे हुए हरदम नजर हैं, भ्रम में मत रहा करिये।।

जितना गुप्त रख चाहो, पर किसी के ही नजर में हो।
वह तो देख लेता सब , जैसे जो किया करिये ।।