समझ लीजिए

नगमा न दिल की मेरी ,पुकार समझ लीजिए ।
जो कह रहा हूँ दिल का , गुबार समझ लीजिए।।
गम बहुत ही दफन है , दिल के इस मजार में ।
निकले न निकल पायेगा , ये साफ समझ लीजिए।।
ये दिल बड़ा बेजोड़ है ,नाजुक न समझ लीजिए।
लोहे से भी मजबूत है , ये जान लीजिए ।।
घुस गया है राज गर , निकल नहीं वो पायेगा ।
दफन भी साथ होगा , ये यकीन कीजिए ।।
ज्वालामुखी को दाबना , होता नहीं आसान पर ।
राज ,राज ही रहेगा , बात मान जाइए ।।
दिल में दबाये रखना , होता नहीं आसान है ।
घुटन बहुत ही होता , ये जान जाइए ।।
कहना मुझे था जो भी , मैने तो कह दिया पर ।
बात मानिए , न मानिए , ये आप जानिए ।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s