तब देख कबीरा रोया

कबीर जयन्ती के अवसर पर ……..

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

देख कुरीति मानव मन का , अपने अश्रु से धोया ।
खूब बुझाया जन-मन को , फूट – फूट कर रोया।।
तब देख कबीरा रोया…….

पाहन पूजन भी हिन्दूओं का ,मन को उन्हें न भाया ।
बाँग लगाना भी मुस्लिम का ,दिल को कम नहीं दुखाया।।
तब देख कबीरा रोया …….

हिन्दू – मुस्लिम एक हैं दोनों ,मानव का धर्म बताया ।
बयमनस्यता घर कर गयी मन में ,दोनों को समझाया ।।
तब देख कबीरा रोया …….

धर्म नहीं कुछ और है होता ,जीने का पथ है केवल ।
हेर-फेर थोडा़ सा कर , अपना राह बताया ।।
तब देख कबीरा रोया …………

दृष्टांत अनेको दे दे कर ही , दोनों को समझाया ।
कहीं जरूरत पड़ी अगर तो , झट फटकार लगाया ।।
तब देख कबीरा रोया ………..

लेना इनसे ज्ञान है ले लो , क्यों मजहब का रोना ?
फूल कमल सा है ये जल का , निर्मल को क्या धोना??
तब देख कबीरा रोया ……………

ना कोई हिन्दू , ना कोई मुस्लिम, मानव केवल बन आया ।
क्यों इनके पचड़े में पड़ते , लोगों को ये समझाया ।।
तब देख कबीरा रोया ……………..

तब देख कबीरा रोया&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s