दुनिया का मेला

चलो साथ मिल चलते हैं, देखें दुनिया का मेला I

कौन लगाया इस मेले को, कौन सजाया है मेला II

जग की सारी चीज़ें मिलती, इस मेले के अंदर में I

शायद ही कोई चीज़ हो वैसी, मिले न जो इस मेले में II

जीव-सजीव, सब सचल-अचल, झोपड़पट्टी और राजमहल I

जंगल, झाड़ी, सागर की लहरें, झड़ने का झड़-झड कोलाहल II

खुर्दबीन से दिखने वाले, या व्हेल -हाथी से जीव बड़े I

छोटे-छोटे अंकुर से लेकर, ढेरों लंबे पेड़ बड़े II

यह दुनिया एक मेला है, या फिर बोलें चिड़ियाखाना I

सारी दुनिया क्षेत्र है इसका, मिलता सब को खाना-दाना II

जीव-जन्तु दरबे में रहते, जीव-जन्तु ही दर्शक भी I

देख दूसरे को डर जाते, एक साथ मिल रहते भी II

प्रेमभाव है रहता किसी से, रहता कोई दुश्मन भी I

रहता कोई खाद्य उसी में, कोई खाने वाला भी II

इतने सारे जीव-जन्तु हैं, इस दुनिया के मेला में I

किसका अभिनय कौन करेगा, जीवन के इस खेला में II

एक जीव आया मेले में, “मानव” उसका नाम I

सबसे अलग और मेधावी, लेता वह बुद्धि से काम II

साहस अदम्य, बुद्धि कुशाग्र, बाहुबल का कोई थाह नहीं I

मानव-धर्म पे मिटने वाले, जीवन की परवाह नहीं II

कुकर्म-सुकर्म और धर्म-अधर्म, सारे कर्मों के ज्ञाता I

इसी जीव “मानव” के अंदर, भेजा यहाँ विधाता II

धर्म से विचलित होना, पर जब शुरू किया मानव मस्तक I

धीरे-धीरे, लोभ-मोह में, फँसता चला गया मस्तक II

जिस मस्तक में लोभ-मोह हो, होता वो बेईमान I

दुष्कर्मों में लिप्त रहेगा, उसका सदा ईमान II

सारे जीवों में सामूहिक,सहयोग परस्पर जो हो जाए I

फिर तो ये जो “मेला” है, “समाज” सही कहलाए II

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s